A- A A+
Last Updated : Jun 3 2020 7:54AM     Screen Reader Access
News Highlights
PM Modi reiterates govt’s commitment to save lives and also to stabilize economy            COVID-19 recovery rate improves to over 48 per cent            France assures timely delivery of Rafale aircraft to India            NDRF teams deployed in Gujarat, Maharashtra in view of Cyclone Nisarga; PM assures all possible support            Nitin Gadkari announces development of new Greenfield expressway to Amritsar           

Text Bulletins Details


समाचार संध्या

2045 HRS
29.03.2020

मुख्य समाचार
:-

  • प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कोविड-19 से निपटने के लिए लोगों से सुरक्षित दूरी बनाये रखने की अपील की। कहा--भावनात्‍मक दूरी न बनायें। आकाशवाणी से मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा--लोगों द्वारा वायरस को रोकने के लिए उठाये गये कदमों से भारत इस महामारी से सुरक्षित होगा।

  • प्रधानमंत्री ने कोविड-19 से उबर चुके मरीजों और डॉक्‍टरों से बात की। भारत को इस महामारी से बडे पैमाने पर लडने में अग्रिम मोर्चे पर डटे स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों की तारीफ की। 

  • केंद्र ने राज्‍यों और केंद्रशासित प्रदेशों से प्रवासी मजदूरों की अपने राज्‍यों के लिए आवाजाही रोकने के वास्‍ते कदम उठाने को कहा।

  • सरकार ने चिकित्‍सा आपात स्थिति प्रबंधन, आइसोलेशन और क्‍वारैंटीन सुविधाओं के लिए दस अधिकार प्राप्‍त समूह गठित किये।

  • केन्‍द्र ने कोविड-19 से निपटने में लगे स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण पैकेज के तहत बीमा योजना को मंजूरी दी।

-----------------

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा कि आपस में सुरक्षित दूरी बनाये रखना ही कोविड-19 से मुकाबले का सबसे कारगर तरीका है। आकाशवाणी से आज मन की बात कार्यक्रम में अपने विचार साझा करते हुए श्री मोदी ने कहा कि हर किसी को अपनी और अपने परिवार की रक्षा करनी होगी। उन्‍होंने कहा कि प्रत्‍येक भारतीय का संकल्‍प और नियम का पालन इस संकट से निपटने में सहायक होगा।


मैं आपकी दिक्‍कतें समझता हूं। आपकी परेशानी भी समझता हूं। लेकिन भारत जैसे 130 करोड़ की आबादी वाले देश को कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए ये कदम उठाये बिना कोई रास्‍ता नहीं था। कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीवन और मृत्‍यु के बीच की लड़ाई है और इस लड़ाई में हमें जीतना
है और इसीलिए ये कठोर कदम उठाने बहुत आवश्‍यक थे।


श्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा कि दुनिया भर में आज जो कुछ भी घट रहा है उसमें यही एकमात्र विकल्‍प बचा था। उन्‍होंने कहा कि लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी ही होगी। प्रधानमंत्री ने लोगों को हो रही कठिनाइयों के लिए क्षमायाचना भी की।


किसी का मन नहीं करता है ऐसे कदमों के लिए। लेकिन दुनिया के हालात देखने के बाद लगता है कि यही एक रास्‍ता बचा है। आपको, आपके परिवार को सुरक्षित रखना है। मैं फिर एक बार आपको जो भी असुविधा हुई है, कठिनाई हुई है। इसके लिए क्षमा मांगता हूं।


प्रधानमंत्री ने कहा कि पूर्णबंदी के दौरान नियम तोड़ने वाले अपने जीवन से खेल रहे हैं।


ये लॉकडाउन आपके खुद के बचने के लिए है। आपको अपने को बचाना है, अपने परिवार को बचाना है। अभी आपको आने वाले कई दिनों तक इसी तरह धैर्य दिखाना ही है। लक्ष्‍मण रेखा का पालन करना ही है। साथियो मैं ये भी जानता हूं कि कोई कानून नहीं तोड़ना चाहता, लेकिन कुछ लोग ऐसा कर रहे हैं, क्‍योंकि अब भी वो स्थिति की गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं। ऐसे लोगों को यही कहूंगा कि लॉकडाउन का नियम तोड़ेंगे तो कोरोना वायरस से बचना मुश्किल हो जायेगा।


श्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई अभूतपूर्व और चुनौतीपूर्ण है। इसलिए, हमें ऐसे कदम उठाने पड़ रहे हैं जिनके बारे में विश्‍व इतिहास में पहले कभी नहीं सुना गया। उन्‍होंने कहा कि आज वायरस से उत्‍पन्‍न संकट ही पूरी दुनिया में हर आदमी की सबसे बड़ी चिंता है और इसलिए उन्‍होंने मन की बात की इस कड़ी को इसी पर केन्द्रित रखा है।


श्री मोदी ने कहा कि हमें गरीबों के प्रति अपनी सम्‍वेदनशीलता को बढ़ाना होगा। संकट की इस घड़ी में जब भी कोई गरीब या भूखा व्‍यक्ति दिखे, तो सबसे पहले उसे खाना खिलाने का प्रयास करना चाहिए।


हमारे यहां कहा गया है, एवं एव विकार: अपि तरूण: साध्‍यते सुखम्। यानी बीमारी और उसके प्रकोप से शुरूआत में ही निपटना चाहिए। बाद में रोग असाध्‍य हो जाते हैं। तब इलाज भी मुश्किल हो जाता है और आज पूरा हिन्‍दुस्‍तान हर हिन्‍दुस्‍तानी यही कर रहा है।


प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी गिरफ्त में ले लिया है और यह ज्ञान, विज्ञान, अमीर, गरीब, मजबूत और लाचार-सब के लिए एक चुनौती के रूप में सामने आया है।


श्री मोदी ने कहा कि देशवासी इस बात को समझेंगे कि सरकार को ऐसे निर्णय क्‍यों लेने पड़े जिनसे लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। श्री मोदी ने खासतौर से वंचित समुदाय के लोगों का जिक्र करते हुए कहा कि वे उनकी पीड़ा को समझ सकते हैं।


प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसे अनेक योद्धा हैं जो घरों में नहीं, बल्कि घरों के बाहर रहकर कोरोना वायरस का मुकाबला कर रहे हैं।


इस लड़ाई के अनेकों योद्धा ऐसे हैं जो घरों में नहीं, घरों के बाहर रहकर कोरोना वायरस का मुकाबला कर रहे हैं। जो हमारे फ्रंट लाइन सोल्‍जर्स हैं। खास करके हमारी नर्सेस बहनें हैं। नर्सेस का काम करने वाले भाई हैं, डॉक्‍टर हैं, पैरा मेडिकल स्‍टाफ हैं, ऐसे साथी जो कोरोना को पराजित कर चुके हैं। आज हमें उनसे प्रेरणा लेनी है।


प्रधानमंत्री ने कोविड-19 के विरूद्ध संघर्ष में डटे कुछ लोगों से फोन पर हुइ बातचीत को साझा करते हुए कहा कि ऐसे लोगों के साथ बातचीत ने उनका उत्‍साह बढ़ाया है।


उन्‍होंने सूचना प्रौद्योगिकी पेशेवर रामगम्‍पा तेजा से बात की जो कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्‍त हो चुके हैं।


परिवार के लिए तो पहले उसके बारे जब पता चला तब तो मैं क्‍वारेंटीन में था। लेकिन क्‍वारेंटीन के बाद भी डॉक्‍टर्स ने बताया था कि और 14 दिन घर पे ही रहना है और अपने रूम में रहना और सेल्‍फ कोर हाउस क्‍वारेंटीन रखने के लिए बोले थे। ठीक होने के बाद भी मैं अपने घर में ही हूं और मेरे रूम में ही रहता हूं ज्‍यादातर मास्‍क लगाके ही रहता हूं दिनभर। जब भी बाहर खाने के लिए कुछ होगा, हैंड वॉशिंग बहुत इंपोर्टेंट है।


श्री मोदी ने संक्रमित से मुक्‍त हो चुके आगरा के अशोक कपूर से भी बात की।


हम छह को उन्‍होंने अलग-अलग रूम दिया। अच्‍छे रूम थे। सब कुछ था, तो  सब हम फिर 14 दिन वहां हॉस्पिटल में अकेले रहते थे और डॉक्‍टरों का जहां तक बात है, बहुत सहयोग रहा जी। बड़ा अच्‍छा हमको उन्‍होंने ट्रीट किया। चाहे स्‍टॉफ हो, वो एक्‍चुअली अपनी ड्रेस पहन के आते थे न सब। पता नहीं चलता था कि ये डॉक्‍टर है या वार्ड बॉय है या नर्स है। वो जो कहते थे हम मान लेते थे। फिलहाल हमको किसी तरह की भी एक पर्सेंट भी प्रॉब्‍लम नहीं आई।


प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस से मुकाबला कर रहे कुछ डाक्‍टरों से भी बात की। दिल्‍ली के डॉक्‍टर नीतेश गुप्‍ता ने इलाज के लिए अस्‍पताल को सरकार से मिल रही सहायता के लिए श्री मोदी को धन्‍यवाद दिया।


सबका मूड अपबीट है। आपका आशीर्वाद सबके साथ है। आपने दिया हुआ सारा हॉस्पिटल को जो भी आप सपोर्ट कर रहे हैं, जो भी चीज हम मांग रहे हैं। आप सब प्रोवाइड कर रहे हैं, तो हम लोग बिल्‍कुल जैसे आर्मी बार्डर पे खड़ी रहती है, हम लोग बिल्‍कुल वैसे ही लगे हुए हैं और हमारा सिर्फ एक ही कर्तव्‍य है कि पेशेंट  ठीक हो के घर जाये।


पुणे के डॉक्‍टर बोरसे ने कोरोना वायरस संक्रमण से उबर रहे रोगियों के साथ अपने अनुभव साझा किए।


सब डॉक्‍टर्स लोग हम हॉस्पिटल में जाके कोरोना पॉजिटिव रोगियों की सेवा कर रहे हैं। मोदी साहब ने हमको फोन करके ये हमारी स्थिति जानने की कोशिश की । उन्‍होंने हमें भरोसा दिलाया, हमारा विश्‍वास बढ़ाया, हमें एनर्जी आई और मोदी साहब ने हमारा धन्‍यवाद किया और ये विश्‍वास दिलाया कि आप डॉक्‍टर लोगों के साथ आपके सहयोग से हमे कोरोना के ऊपर विजयी होंगे।

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र के करीब 20 लाख साथियों के लिए सरकार ने 50 लाख रुपये तक के स्‍वास्‍थ्‍य बीमा की घोषणा सरकार ने की है। ताकि वे इस लड़ाई में और अधिक आत्‍मविश्‍वास के साथ देश का नेतृत्‍व कर सकें। प्रधानमंत्री ने इस बात पर दुख व्‍यक्‍त किया कि कोरोना वायरस के संदिग्‍ध लोगों या घर में विशेष निगरानी में रखे जा रहे लोगों के प्रति लोग बुरा बर्ताव कर रहे हैं।


मुझे कुछ ऐसी घटनाओं का पता चला है, जिनमें कोरोना वायरस के संदिग्‍ध ऐसे जिन्‍हें होम क्‍वारेंटाइन में रहने को कहा गया है। उनके साथ कुछ लोग बुरा वर्ताव कर रहे हैं। ऐसी बातें सुनकर मुझे अत्‍यंत पीड़ा हुई है। ये बहुत दुर्भाग्‍यपूर्ण है। हमें ये समझना होगा कि मौजूदा हालात में अभी एक-दूसरे से सिर्फ सोशल डिस्‍टेंस बनाकर रखना है न कि इमोशनल या ह्यूमन डिस्‍टेंस। ऐसे लोग कोई अपराधी नहीं हैं। बल्कि वायरस के संभवित पीडि़तभर हैं। इन लोगों ने दूसरों को संक्रमण से बचाने के लिए खुद को अलग किया है और क्‍वारेंटाइन में रहे हैं।


प्रधानमंत्री ने टेलीविजन सेवा और डिजिटल भुगतान को जारी रखने से जुड़े लोगों के प्रति भी कृतज्ञता व्‍यक्‍त की। प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस से लड़ने का सबसे कारगर तरीका आपस में सुरक्षित दूरी बनाये रखना ही है। लेकिन हमें यह समझना होगा कि सुरक्षित दूरी का मतलब सामाजिक संपर्क खत्‍म करना नहीं है।


आज हर भारतीय अपने जीवन की रक्षा के लिए घर में बंद है। लेकिन आने वाले समय में यही हिन्‍दुस्‍तानी अपने देश के विकास के लिए सारी दीवारों को तोड़कर आगे निकलेगा, देश को आगे ले जायेगा। आप अपने परिवार के साथ घर पर रहिए, सुरक्षित और सावधान रहिए, हमें ये जंग जीतना है जरूर जीतेंगे।  

-----------------

केंद्र ने बड़ी संख्या में अपने गृह राज्यों को लौट रहे प्रवासी मजदूरों की आवाजाही रोकने के लिए राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों से कदम उठाने को कहा है। लॉकडाउन के कारण फंसे गरीब और जरूरतमंद लोगों को अस्थायी आश्रय गृह, भोजन तथा अन्य सुविधायें उपलब्ध कराने के लिए पर्याप्त व्यवस्था करने को कहा गया है। गृह मंत्रालय ने अपने ताज़ा निर्देशों में संबंधित राज्यों से कहा है कि अपने घरों को लौट रहे प्रवासी लोगों को नज़दीकी आश्रय गृहों में ठहराने की व्यवस्था की जाए। इन लोगों को उचित जांच के बाद कम से कम 14 दिनों के लिए अलग रखा जाए।


मंत्रालय ने उद्योगों, दुकानों और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों सहित नियोक्ताओं से अपने कामगारों को निर्धारित तिथि पर मजदूरी का भुगतान करने को कहा है। मकान मालिकों को भी ऐसे कामगारों से एक महीने का किराया नहीं लेने को कहा गया है। मंत्रालय ने चेतावनी दी है कि मजदूरों और विद्यार्थियों को मकान खाली करने पर बाध्य करने वाले मकान मालिकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।


बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूरों की घर वापसी को लॉकडाउन का उल्लंघन बताते हुए मंत्रालय ने कहा है कि पूर्णबंदी को लागू करने के लिए ज़िला मजिस्ट्रेट, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक और पुलिस उपायुक्त व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार होंगे।


इससे पहले केंद्र ने राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासन से प्रवासी मजदूरों की आवाजाही रोकने के लिए राज्य और जिलों की सीमाएँ बंद करने को कहा था। कैबिनेट सचिव राजीव गाबा और केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने वीडियो कॉन्फ्रेंस करके मुख्य सचिवों और पुलिस महानिदेशकों से यह सुनिश्चित करने को कहा कि लॉकडाउन के दौरान शहरों और राजमार्गों पर लोगों की आवाजाही न हों। कैबिनेट सचिव और गृहमंत्रालय के अधिकारी राज्यों के मुख्य सचिवों और पुलिस महानिदेशकों के साथ लगातार संपर्क में है।  सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में लॉकडाउन के दिशा निर्देशों को प्रभावी ढंग से लागू किया जा रहा है। आवश्यक वस्तुओ की आपूर्ति भी सुचारू रूप से जारी है।

-----------------

पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के  एक सौ छह नए मामले सामने आए हैं और छह लोगों की मौत की खबर है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय में संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने आज नई दिल्‍ली में बताया कि देश में वायरस के 979 मामलों की पुष्टि हुई हैं और अब तक 25 लोगों की मौत हो गई है। उन्‍होंने कहा कि सरकार ने चिकित्‍सीय आपात स्थिति प्रबंधन, रोगियों को अलग रखने के लिए बिस्‍तर और क्‍वारैंटीन सुविधा से जुड़े निर्देश देने के लिए दस समूह गठित किए गए हैं। श्री अग्रवाल ने कहा कि लॉकडाउन के कारण कुछ व्‍यवहार संबंधी, मानसिक और स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़े समस्‍याएं सामने आई हैं और नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेंटल हैल्‍थ एंड न्‍यूरो साइंसेस ने परामर्श के लिए टोल फ्री नंबर 0 8 0 - 4 6 1 1 0 0 0 7 शुरू किया है। कोविड-19 के मरीजों के लिए विशेष ब्‍लॉकों और अस्‍पतालों के बारे में उन्‍होंने कहा कि अन्‍य मरीजों से उन्‍हें अलग रखने की प्रक्रिया शुरू की गई है।


भारतीय चिकित्‍सीय अनुसंधान परिषद में प्रमुख वैज्ञानिक  रमन गंगाखेडकर ने कहा कि अब तक लगभग पैंतीस हजार जांच की गई है। उन्‍होंने कहा कि एक सौ तेरह प्रयोगशालाएं काम कर रही हैं और 47 प्राइवेट प्रयोगशालाओं को मंजूरी दी गई है।


गृह मंत्रालय में संयुक्‍त सचिव पुण्‍य सलिला श्रीवास्‍तव ने कहा कि नियोक्‍ताओं को निर्देश दिया जाना चाहिए कि वे बंद की अवधि के दौरान कोई भी कटौती किए बगैर निर्धारित तिथि को कामगारों को पूरा वेतन दें और मकान मालिक इस अवधि का किराया न लें। उन्‍होंने यह भी कहा कि कागगारों को स्‍थान खाली करने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है।


जो स्‍टेंडर्ड लेबर है उसके लिए फुड और शेल्‍टर का प्रावधान हो। स्‍टेट डिजास्‍टर के रेसपोंस फंड के अंतर्गत स्‍टेटस और यूटीज़ के लिए सफिशियंट फंड मिला हुआ है जो लेबर चल चुकी है उसको उसके गंतव्‍य स्‍थान पर स्‍टेंडर्ड हेल्‍थ प्रोटोकॉल के अनुसार मिनिमम 14 दिन के लिए कोरनटाइन किया जाए जितने एम्‍प्रालयर हैं, उनको निर्देश दिया जाए और ये लागू किया जाए कि क्‍लोज डाउन पीरड के लिए वर्कर को उनके वर्क पैलेसस पर ड्यू डेट पर बिना डिटक्‍शन के पूरी वेजज दें जो वर्कर रेंटेड अकोमेडेशन में रह रहे हैं उनके लेंड लार्ड न उनसे एक महीने का रेंट मांगेगे और न उनसे खाली कराएंगे।

-----------------

कोविड-19 की स्थिति और इसके नियंत्रण के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा के लिए केन्द्रीय मंत्रियों की आज नई दिल्‍ली में एक उच्‍च स्‍तरीय बैठक हुई। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि बैठक के दौरान आवश्‍यक वस्‍तुओं की आपूर्ति के बारे में विचार-विमर्श किया गया। श्री सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी को बैठक में हुए विचार-विमर्श के बारे में लगातार जानकारी दी जा रही है। 

 

गृहमंत्री अमित शाह, सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर, पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्‍द्र प्रधान और अन्‍य वरिष्‍ठ केन्‍द्रीय मंत्रियों ने बैठक में भाग लिया। 

-----------------

गृह मंत्रालय ने सभी राज्‍यों और केंद्रशासित प्रदेशों को इक्‍कीस दिन के लॉकडाउन के दौरान आवश्‍यक और गैर आवश्‍यक वस्‍तुओं के बीच अंतर किए बिना सभी माल को लाने , ले जाने की अनुमति देने को कहा। गृह सचिव अजय भल्‍ला ने राज्‍य के मुख्‍य सचिवों को लिखे पत्र में कहा कि लॉकडाउन के दौरान समाचार पत्रों की आपूर्ति की जानी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि इस दौरान दूध के लिए पैकिंग सामाग्री सहित दूध एकत्रित करने और इसके वितरण की अनुमति होनी चाहिए।


इसके अलावा हैंडवॉश, साबुन, मुंह साफ करने वाले सामान, बैटरी और चार्जर जैसे उत्‍पादों सहित राशन लाने, ले जाने की भी अनुमति होनी चाहिए। श्री भल्‍ला ने कहा कि राष्‍ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अंतर्गत भारतीय रेडक्रॉस सोसायटी की सेवाओं को भी शामिल किया गया है।

-----------------

सरकार ने कोविड-19 से निपटने में लगे स्वास्थ्य कर्मियों  के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत घोषित बीमा योजना को मंजूरी दे दी है। योजना के अंतर्गत लगभग 22 लाख 12 हजार जन स्वास्थ्य कर्मियों को 90 दिनों के लिए 50 लाख रूपये की बीमा सुरक्षा दी जाएगी। इनमें ऐसे सामुदायिक स्वास्थ्य कर्मी शामिल हैं जो कोविड-19 से ग्रस्त मरीजों की देखभाल में लगे हैं और रोगियों के सीधे संपर्क में होने के कारण जान को खतरा हो सकता है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि इस योजना के अंतर्गत उपलब्ध कराई जा रही बीमा सुरक्षा लाभार्थी द्वारा पहले से ली गई अन्य बीमा सुरक्षा से अतिरिक्त होगी।

-----------------

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन संक्रमण को रोकने में जुटे देश के स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों को जल्‍द ही आधुनिक वेंटीलेटर, फेस मास्‍क और व्‍यक्तिगत सुरक्षा उपकरण से लेस करेगा। संगठन के अध्‍यक्ष डॉक्‍टर जी सतीश रेड्डी ने आकाशवाणी को बताया कि अगले कुछ दिनों में इनमें से कई उपकरण स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों को उपलब्‍ध करा दिए जाएंगे। उन्‍होंने कहा कि संगठन ने कई मरीजों के लिए एक वेंटीलेटर का इस्‍तेमाल करने की प्रौद्योगिकी विकसित की है। 


हमने कुछ उपकरण बनाएं हैं जिनमें वेंटिलेटर शामिल हैं और जिनका प्रयोग कई लोगों के लिए एक साथ किया जा सकता हैं। इनका कल और परसों कई अस्‍पतालों में प्रसिद्ध डाक्‍टरों के नेतृत्‍व में परीक्षण किया गया जोकि सफल रहा।


संगठन ने पांच परतों वाले एन-99 मास्‍क तैयार किए हैं और इसे बनाने की प्रौद्योगिकी उद्योग जगत को दी है, ताकि बड़े पैमाने पर इनका निर्माण हो सके।


हमारे पास पीपीई तकनीक भी उपलब्‍ध है और हम इस तकनीक के जरिए चेहरे पर लगाए जाने वाले मास्‍क और शरीर पर पहने जाने वाले वस्‍त्र का निर्माण भी कर सकते हैं। इन्‍हें हम पीपीई यानि पर्सनल प्रोडक्‍शन इक्‍यूमेंट कहते हैं। हमने इस तकनीक को कई उद्योगों के साथ साझा किया है और वे इसका निर्माण भी कर रहे हैं लेकिन उत्‍पादन की क्षमता मांग के अनुसार नहीं है इसके लिए हम कुछ और उद्योगों को शामिल कर रहे हैं ताकि मांग के अनुरूप चेहरे के मास्‍क और शरीर के वस्‍त्र उपलब्‍ध कराया जा सके।


डॉक्‍टर सतीश रेड्डी ने यह भी बताया कि सेनीटाइज करने वाली वेन भी जल्‍द ही पर्याप्‍त संख्‍या में तैयार की जाएंगी और प्रमुख शहरों त‍था कस्‍बों में भेजा जाएगा।

-----------------

भारतीय रेल लॉकडाउन के दौरान आवश्‍यक वस्‍तुओं और  छोटे आकार के पार्सल में अन्‍य माल को लाने- ले जाने के लिए विशेष पार्सल रेलगाडि़यां चलाएगा। इसका उद्देश्‍य आवश्‍यक वस्‍तुओं की निर्बाध और सुचारू आपूर्ति श्रृंखला सुनिश्चित करना है। रेलवे ने आवश्‍यक ई-कॉमर्स प्रतिष्‍ठानों और राज्‍य सरकारों सहित अन्‍य उपभोक्‍ताओं के लिए ऐसे सामान को देशभर में तेजी से पहुंचाने के लिए रेलवे पार्सल वेन उपलब्‍ध कराईं हैं।

-----------------

दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रवासी श्रमिकों को भरोसा दिलाया कि दिल्‍ली सरकार ने उनके लिए खान-पान और रहने की व्‍यवस्‍था की है। श्री केजरीवाल ने सभी मकान मालिकों से अपील की कि वे किरायदारों को यह कहते हुए किराया लेने के लिए मजबूर न करें यदि कोई भुगतान नहीं कर सकता तो दिल्‍ली सरकार उसका वहन करेगी।

-----------------

हरियाणा में कोविड-19 से पीड़ित छह रोगियों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। राज्य में अब इस बीमारी से संक्रमित पंद्रह मरीजों का इलाज किया जा रहा है।


इस बीच राज्य के मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने अधिकारियों से एक मोबाइल ऐप तैयार करने को कहा है जिससे इस बीमारी के संक्रमण की संभावना वाले अलग रखे गए लोगों की गतिविधियों पर नजर रखी जा सके।

-----------------

बिहार में अन्‍य राज्‍यों से आ रहे प्रवासी श्रमिकों को स्‍वास्‍थ्‍य जांच के बाद 14 दिनों के लिए क्वॉरन्टीन में रखा जायेगा।


राज्‍य में प्रवासी मजदूरों के आने का सिलसिला शुरू हो गया है। उन्‍हें सीमावर्ती इलाकों के राहत शिविर में रखा जा रहा है। राज्‍य सरकार ने फिलहाल सभी मजदूरों को शिविर में ही रहने का निर्देश दिया है। कोरोना वायरस के संक्रमित मजदूरों को अलग रखा जाएगा। बिहार की सीमा में आने वाले प्रत्‍येक व्‍यक्ति की जिलावार सूची तैयार की जा रही है। इस बीच मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रवासी मजदूरों की गतिविधियों पर नजर रखने का निर्देश दिया है। आकाशवाणी समाचार के लिए पटना से कृष्‍ण कुमार लाल।

-----------------

कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री बी.एस. येडियुरप्‍पा ने विपक्षी नेताओं को भरोसा दिलाया है कि पडौसी राज्‍यों से लौटने वाले प्रवासी श्रमिको को चिकित्‍सा सुविधा उपलब्‍ध कराई जायेगी और उन्‍हें उनके गांव तक पहुंचाया जायेगा। मुख्‍यमंत्री ने यह भी आश्‍वासन दिया कि कोविड-19 रोगियों का ईलाज कर रहें चिकित्‍साकर्मियों को प्रयाप्‍त सुरक्षा उपकरण, मॉस्‍क, दस्‍ताने और सेनीटाइज‚र उपलब्‍ध कराये जायेंगे। उन्‍होंने यह भी कहा कि किसानों और बीपीएल कार्ड धारकों का ध्‍यान रखा जायेगा। 

-----------------

तमिलनाडु में आठ नये और मामलें सामने आने से राज्‍य में इस वायरस के मरीजों की संख्‍या 50 हो गई हैं। सभी आठों मरीज इरोड से है। ये लोग थाईलैंड से आये संक्रमित पुष्टि वाले दो लोगों के संपर्क में आये थे।

-----------------

देशव्यापी लॉकडाउन के कारण राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में फंसे हिमाचल प्रदेश के लोगों और विद्यार्थियों को नई दिल्ली स्थित हिमाचल भवन और हिमाचल सदन में भोजन और आश्रय उपलब्ध कराया जाएगा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने लोगों से आग्रह किया है कि वे जहां हैं वहीं रुके रहें। कोरोना महामारी को देखते हुए लोगों के एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने की अनुमति नहीं है।

-----------------

असम सरकार ने सभी उपायुक्‍तों को प्रवासी श्रमिकों के लिए सभी आवश्‍यक सहायता उपलब्‍ध कराने का निर्देश दिया है। आयुक्‍त गृह एम. मनीवन्‍नान ने आकाशवाणी को बताया कि सभी उपायुक्‍तों को प्रवासी श्रमिकों के लिए आश्रय और राहत-सामग्री उपलब्‍ध कराने का निर्देश दिया है।

-----------------

असम में शिक्षा विभाग चालीस लाख से अधिक स्‍कूली बच्‍चों को मध्‍यान्‍ह भोजन उपलब्‍ध करा रहा है। शिक्षा विभाग में प्रधान सचिव बी. कल्‍यण चक्रवर्ती ने आकाशवाणी को बताया कि इस दौरान सामाजिक दूरी और उचित स्‍वच्‍छता बनाए रखी जा रही है। उन्‍होंने कहा कि राज्‍य में पूर्ण बंदी के दौरान मध्‍यान्‍ह भोजन को जारी रखने के लिए सभी आवश्‍यक कदम उठाए गए हैं।

-----------------

प्रधानमंत्री कार्यालय ने स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार, अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और लॉकडाउन के कारण लोगों की परेशानियों को जल्द दूर करने की दिशा में उपाय सुझाने के लिए दस अलग-अलग उच्च स्तरीय समितियों का गठन किया है। ये समितियां प्रधान मंत्री के प्रधान सचिव पी के मिश्रा के मार्गदर्शन में काम करेंगी। आधिकारिक सूत्रों ने कहा, ये समितियां न्यनतम समय सीमा में स्वास्थ्य सेवा सहित अपने-अपने क्षेत्रों में सामान्य स्थिति बहाल करने की रणनीति पर भी काम करेंगी।

-----------------

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को कोविड-19 संकट से उबारने में मदद के लिए पीएम-केयर्स कोष में एक महीने के वेतन का योगदान करने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का आभार व्यक्त किया है। उन्‍होंने कहा कि राष्ट्रपति ने इस दिशा में नेतृत्व करते हुए देश को प्रेरणा दी है। प्रधानमंत्री ने कोष में योगदान के लिए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण, सैलो ग्रुप, टी-सीरिज और पेटीएम सहित अन्य संगठनों तथा लोगों को धन्यवाद दिया है।

-----------------

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री केयर्स कोष में एक महीने का वेतन दिया है। श्री सिंह ने लोगों से इस कोष में अंशदान करने तथा कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए भारत के संकल्‍प को मजबूत बनाने का आग्रह किया है।


रक्षा मंत्री ने कोष में रक्षा मंत्रालय के कर्मचारियों के एक दिन का वेतन देने को मंजूरी दी है। अनुमान है कि इससे कोष में लगभग पांच सौ करोड़ रुपये दिए जाएंगे। यह योगदान स्‍वैच्छिक है।

-----------------

सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने अपने सांसद स्‍थानीय क्षेत्र विकास निधि से केंद्रीय राहत कोष में एक करोड़ रुपये दिए हैं। उन्‍होंने अपनी विकास निधि से नोवेल कोरोना वायरस की महामारी से निपटने के लिए उपकरण खरीदने के वास्‍ते पुणे के अस्‍पतालों के लिए भी एक करोड़ रुपये मंजूर किए हैं।

-----------------

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि प्रधानमंत्री के आह्वान पर भारतीय रेलवे पीएम केयर्स निधि में 151 करोड रुपये का योगदान करेगा। उन्‍होंने कहा कि वे और राज्‍य मंत्री सुरेश अगाडी एक-एक महीने का वेतन दान करेंगे, जबकि रेलवे के 13 लाख कर्मचारी एक-एक दिन का वेतन दान करेंगे।पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्‍द्र प्रधान ने राष्‍ट्रीय आपदा कोष में एक महीने का वेतन दान किया है।

-----------------

कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी विभिन्‍न पक्षों से सम्‍पर्क जारी रखे हुए हैं। श्री मोदी प्रतिदिन  200 से अधिक लोगों के साथ बातचीत करते हैं, जिनमें विभिन्‍न राज्‍यों के राज्‍यपाल, मुख्‍यमंत्री और स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री शामिल हैं। इसका उद्देश्‍य कोविड-19 से निपटने के उपायों के बारे में प्रत्‍यक्ष जानकारी हासिल करना है। वे देश के विभिन्‍न भागों में चिकित्‍सकों, नर्सों, स्‍वास्‍थ्‍य और सफाई कर्मचारियों के साथ भी फोन पर सम्‍पर्क कर रहे हैं। शुक्रवार को प्रधानमंत्री ने आकाशवाणी के रेडियो प्रस्‍तुतकर्ताओं और उद्घोषकों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग में हिस्‍सा लिया था।

-----------------

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि उनकी पार्टी कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने में सरकार को सहयोग करेगी। प्रधानमंत्री को लिखे एक पत्र में श्री गांधी ने सरकार से आग्रह किया कि सामाजिक सुरक्षा को तुरंत सुदृढ़ किया जाए और गरीब कामगारों की सहायता तथा आश्रय के लिए सभी सार्वजनिक संसाधनों का उपयोग किया जाए।

-----------------

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने लोगों को सलाह दी है कि वे कोविड-19 वायरस से सुरक्षित रहने के लिए सभी बुनियादी एहतियाती उपायों का पालने करें।


लॉकडाउन के दौरान कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिए  सरकार ने लोगों को बुनियादी सुरक्षात्‍मक उपायों का पालन करने की सलाह दी है। कुद को सुरक्षित रखने के लिए लोगों को समाजिक दूरी से संबंधित नियमों का सख्‍ती से पालन करना चाहिए और इकट्टा होने से बचना चाहिए। इस दौरान सभी अपनों घरों में रहें और सिर्फ जरूरी चीज़ों के लिये ही बाहर निकलें। लोगों को सलाह दी जाती है कि वे अपनी आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें। बार-बार अपने हाथों को साबुन और एल्‍कोहल आधारित हैंड सैनेटाइज़र से साफ करते रहें। हाथों को दोनों तरफ से कम से कम 20 सैकेन्‍ड तक साफ करें। यदि किसी व्‍यक्ति को खांसी या बुखार है तो वह दूसरे के सम्‍पर्क में आने से बचे और डॉक्‍टर से सलाह ले। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस के बारे में जानकारी के लिये एक टोलफ्री नम्‍बर 1075 जारी किया है। हम साथ हम साथ मिलकर इस वायरस से लड़ सकते हैं। जरूरत है एहतियात बरतने की और खुद को सुरक्षित रखने की। भूपेन्‍द्र सिंह, आकाशवाणी समाचार, दिल्‍ली।

-----------------

बैंक ऑफ इंडिया ने ऋणों पर ब्याज दर में 75 आधार अंकों की कमी करते हुए इसे सात दशमवल दो पांच प्रतिशत कर दिया है। नई दरे एक अप्रैल से लागू होंगी। रिज़र्व बैंक ने 27 मार्च को रेपो दर में 75 आधार अंको की कमी करते हुए इसे चार दशमलव चार प्रतिशत किया था।


बैंक ने एक माह से लेकर एक साल तक की अवधि वाले ऋण के लिए ब्याज दरों में भी शून्य दशमलव दो पांच प्रतिशत की कटौती की है। एक दिन की अवधि के ऋण पर ब्याज दर में शून्य दशमलव एक पांच प्रतिशत की कमी की गई है।

-----------------

उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍य नाथ ने प्रवासी श्रमिकों और अन्‍य राज्‍यों में रह रहे लोगों से लॉकडाउन के दौरान अगले निर्देश तक जहां हैं वहीं रहने की अपील की है। उन्‍होंने कहा कि राज्‍यों में इन लोगों की देखभाल के लिए बारह नोडल अधिकारियों को नामित किया गया है। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि इस समय प्रवासी श्रमिकों को अपना स्‍थान छोड़ना अच्‍छा नहीं है और इससे कई राज्‍यों में समस्‍याएं हो रही हैं। उन्‍होंने उत्‍तर प्रदेश के मकान-मालिकों से उनके घरों में रह रहे श्रमिकों और कर्मियों से एक म‍हीने का किराया नहीं लेने का भी आग्रह किया है।

-----------------

विश्व में नोवेल कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों की संख्या आज बढ़कर 31 हजार चार सौ बारह हो गई। दो तिहाई से अधिक लोगों की मौत यूरोप में हुई है। पिछले वर्ष दिसम्बर से अब तक  183 देशों में  संक्रमण के छह लाख 68 हजार से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं।

-----------------

आकाशवाणी के समाचार सेवा प्रभाग से प्रसारित होने वाले  कोविड-19 विशेष कार्यक्रम में कोरोना वायरस संक्रमण की वर्तमान स्थिति पर चर्चा करेंगे।


यह कार्यक्रम एफ एम गोल्‍ड चैनल और अतिरिक्‍त मीटरों पर रात साढे‚ नौ बजे से प्रसारित किया जायेगा।


श्रोता टोल फ्री नंबर 1 8 0 0 - 1 1 - 5 7 6 7 पर स्‍टूडियो में मौजूद विशेषज्ञों से सवाल पूछ सकते हैं।

-----------------

Live Twitter Feed

Listen News

Morning News 2 (Jun) Midday News 2 (Jun) Evening News 2 (Jun) Hourly 3 (Jun) (0605hrs)
समाचार प्रभात 2 (Jun) दोपहर समाचार 2 (Jun) समाचार संध्या 2 (Jun) प्रति घंटा समाचार 3 (Jun) (0600hrs)
Khabarnama (Mor) 2 (Jun) Khabrein(Day) 2 (Jun) Khabrein(Eve) 2 (Jun)
Aaj Savere 2 (Jun) Parikrama 2 (Jun)

Listen Programs

Market Mantra 2 (Jun) Samayki 2 (Jun) Sports Scan 23 (Mar) Spotlight/News Analysis 2 (Jun) Samachar Darshan 22 (Mar) Radio Newsreel 21 (Mar)
    Public Speak

    Country wide 12 (Mar) Surkhiyon Mein 2 (Jun) Charcha Ka Vishai Ha 11 (Mar) Vaad-Samvaad 17 (Mar) Money Talk 17 (Mar) Current Affairs 6 (Mar)
  • Money Matters 22 (Mar)
  • International News 22 (Mar)
  • Press Review 23 (Mar)
  • From the States 23 (Mar)
  • Let's Connect 22 (Mar)
  • 360°- Ek Parivesh 23 (Mar)
  • Know Your Constitution 30 (Jan)
  • Ek Bharat Shreshta Bharat 22 (Mar)
  • Sanskriti Darshan 23 (Mar)
  • Fit India New India 23 (Mar)
  • Weather Report 21 (Mar)
  • North East Diaries 22 (Mar)
  • 150 Years of Bapu 22 (Mar)
  • Sector Specific Discussions 22 (Mar)