A- A A+
Last Updated : May 29 2020 2:52PM     Screen Reader Access
News Highlights
HM Amit Shah speaks to all Chief Ministers; Seeks their views on future strategy in fight against Covid 19            COVID recovery rate improves to 42.88 %, Over 71 thousand patients cured so far            449 domestic flights operated on day-3 of resumption of Air Lines services: Civil Aviaiton Minister HS Puri            Railways Ministry appeals persons in COVID-19 risk category to avoid travel by trains            Over 2 lakh metric tonnes of food grains lifted by states for May & June: FCI           

Text Bulletins Details


समाचार संध्या

2045 HRS
06.04.2020
मुख्य समाचार
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 महामारी के मद्देनज़र केंद्रीय मंत्रियों को राज्यों और ज़िला प्रशासनों के सम्पर्क में रहने और उनकी समस्याओं का समाधान करने को कहा।
  • प्रधानमंत्री ने मंत्रियों से लाभार्थियों तक गरीब कल्याण योजना का लाभ पहुंचाने का आग्रह किया।
  • सरकार का सांसदों के वेतन में एक साल के लिए तीस प्रतिशत कटौती करने का निर्णय, सांसद निधि कोष दो वर्ष के लिए स्थगित।
  • राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और राज्यपाल सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत एक वर्ष तक तीस प्रतिशत वेतन कम लेंगे।
  • केंद्र ने कोविड-19 महामारी के प्रबंधन के लिए राज्यों को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन निधि के तहत अतिरिक्त तीन हज़ार करोड़ रुपये जारी किये। देशभर में अब तक करीब सत्रह लाख मीट्रिक टन अनाज का परिवहन किया गया।

------------

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज केन्‍द्रीय मंत्रियों से बातचीत में कोविड-19 से निपटने में दृढ़संकल्‍प, उत्‍प्रेरण और जागरूकता  के महत्‍व पर जोर दिया। उन्‍होंने मंत्रियों से कहा कि वे राज्‍य और जिला प्रशासन से संपर्क बनाये रखें और उनकी समस्‍याओं का समाधान करें तथा जिलास्‍तर की छोटी योजनाएं बनायें। प्रधानमंत्री ने संबंध‍ित मंत्रालयों से आग्रह किया कि वे लगातार निगरानी रखें और सुनिश्‍चित करें कि गरीब कल्‍याण योजना का लाभ लाभार्थियों तक सुचारू रूप से पहुंच सके। श्री मोदी ने मंत्रियों से कहा कि वे आरोग्‍य सेतु ऐप को ग्रामीण क्षेत्रों और निचले तबकों के बीच लोकप्रिय बनायें। उन्‍होंने किसानों को मंडि़यों से जोड़ने के लिये ऐप आधारित कैब सेवा की तर्ज पर ट्रक एग्रिगेटर्स जैसे नवीन तरीके के इस्‍तेमाल की सम्‍भावना का पता लगाने पर बल दिया। उन्‍होंने मंत्रियों से कहा कि वे लॉकडाउन समाप्‍त होने के बाद प्रत्‍येक मंत्रालय के लिये दस प्रमुख निर्णयों और दस प्रथामिक क्षेत्रों की पहचान करें। प्रधानमंत्री ने कहा कि मंत्रालयों को कारोबार निरंतरता योजना बनानी चाहिए और उन्‍हें कोविड-19 के आर्थिक प्रभावों से युद्ध स्‍तर पर निपटने के लिये तैयार रहना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि यह संकट मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने और अन्‍य देशों पर निर्भरता कम करने का अवसर भी है।


प्रधानमंत्री ने कहा कि किसानों का कल्‍याण बहुत महत्‍वपूर्ण है और सरकार फसल कटाई मौसम में किसानों की हर संभव मदद करेगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि आवश्‍यक औषधियों और सुरक्षा उपकरणों के उत्‍पादन पर लगातार निगरानी रखने की आवश्‍यकता है। मंत्रियों ने #9pm9minute पहल की सराहना करते हुए कहा कि देश के हर कोने में लोगों ने इसमें भाग लिया। इस प्रकार पूरा देश विश्‍व महामारी के खिलाफ लड़ाई में एकजुट दिखा।

------------

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संसद सदस्‍य वेतन, भत्‍ते और पेंशन अधिनियम 1954 में संशोधन के लिए अध्‍यादेश को आज मंजूरी दे दी। इसके तहत सांसदों का वेतन एक वर्ष के लिए 30 प्रतिशत कम हो जाएगा। यह अध्‍यादेश पहली अप्रैल से प्रभावी हो गया। सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने संवाददाताओं को बताया कि केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों का वेतन एक वर्ष के लिए 30 प्रतिशत घट जाएगा।



सांसदों की 30 फीसदी तनख्‍वा एक सालभर के लिए कम होगा। ऑडिनेंस के रूप में आज निर्णय हुआ लेकिन इसके तुरंत अमल होगा क्‍योंकि ऑडिनेंस राष्‍ट्रपति जी के सिग्‍नेचर के बाद आएगा और स्‍वयं प्रधानमंत्री, मंत्रिमंडल के सारे मंत्री और सभी सांसद इन सभी ने  अपने वेतन का भी 30 फीसदी एक साल न लेने का फैसला एक सामाजिक उत्‍तरदायित्‍व जो है देश के प्रति हमारा जो कर्त्‍तव्‍य है उसकी भावना को बल देते हुए उसके लिए यह निर्णय आज किया।


श्री जावड़ेकर ने बताया कि मंत्रिमंडल ने दो वर्ष के लिए सांसद क्षेत्रीय विकास निधि स्‍थगित करने का फैसला किया है।



एम पी लैड को अब दो साल के लिए स्‍थगित किया जाएगा यानि 2020-21 और 2021-22 और हर सांसद के जो दो वर्ष की सांसद निधि है वो दस-दस करोड़ रूपए वो भी देश के कंसोलिडेटिड फंड में जमा होंगे। 


श्री जावड़ेकर ने कहा कि यह 79 अरब रुपये की राशि कोविड-19 से निपटने के लिए भारत की समेकित निधि में जमा कराई जाएगी।

------------

सरकार ने कोविड-19 महामारी के प्रबंधन के लिए राज्‍यों को राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मिशन निधि से अतिरिक्‍त तीन हजार करोड़ रूपए जारी किए हैं। इससे पहले इस निधि में 11 सौ करोड रुपये जारी किए जा चुके हैं। स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय में संयुक्‍त सचिव लव अग्रवाल ने आज नई दिल्‍ली इसकी जानकारी दी। उन्‍होंने कहा कि लॉकडाउन की अवधि के दौरान देशभर में अब तक 16 लाख 94 हजार मीट्रिक टन अनाज का परिवहन किया गया।



इस लॉकडाउन की अवधि में देशभर में लगभग 16.94 लाख मैट्रिक टन फूड ग्रेन के द्वारा हमने उनको 605 रेक के द्वारा ट्रांसपोर्ट भी किया है। अब तक फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के द्वारा इस मॉडल के द्वारा 13 स्‍टेट्स में 1.3 लाख मैट्रिक टन वीट और 8 स्‍टेट्स में 1.32 लाख मैट्रिक टन राइस अलॉट किया गया है। साथ ही 4 अप्रैल को सेंट्रल पूल में फूड कॉरपोरेशन के पास अभी 55.47 लाख मैट्रिक टन अनाज अभी भी है।   


इस बीच, देश में पिछले 24 घंटे में छह सौ 93 लोगों में कोविड-19 के संक्रमण की पुष्टि हुई। इसके साथ ही संक्रमित लोगों की संख्‍या चार हजार 67 हो गई, जबकि एक सौ नौ लोगों की मृत्‍यु हुई है। कुल मामलों में से 76 प्रतिशत पुरूष और 24 प्रतिशत महिलाएं हैं। उन्‍होंने कहा कि संक्रमित लोगों में से एक हजार चार सौ 45 तब्‍लीगी जमात से संबंधित हैं।  



अब तक टोटल 291 पीपल हेव रिकवर्ड। अगर हम देखें कि पिछले दिन से आज तक में तो अराउंड 693 नए पॉजिटिव केसेज आए हैं और आज टोटल केसेज की संख्‍या 4067 है जिसमें से 1445 केसिज एज आई मेंसंड येसटरडे। दे आर रिलेटेड टू तबलीगी जमात कंफर्म केसेज।


श्री अग्रवाल ने कहा कि कोविड-19 के शिकार एक सौ नौ लोगों में से 63 प्रतिशत की उम्र 60 वर्ष से अधिक थी। मृतकों में 40 से 60 वर्ष की उम्र के 30 प्रतिशत जबकि 40 वर्ष से कम उम्र के सात प्रतिशत लोग थे। उन्‍होंने उच्‍च जोखिम वाले लोगों को सरकार के निर्देशों और दिशानिर्देशों का पालन करने का सुझाव दिया। श्री अग्रवाल ने देशवासियों से कोविड-19 महामारी को फैलने से रोकेने के लिए सामाजिक दूरी बनाए रखने और दिशा निर्देशों का पालन करने का आग्रह किया।


गृह मंत्रालय में संयुक्‍त सचिव पुण्‍य सलिला श्रीवास्‍तव ने कहा कि लॉकडाउन के उपायों को प्रभावी ढंग से लागू किया जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि आवश्‍यक वस्‍तुओं और चीजों की उपलब्‍धता संतोषजनक है। तब्‍लीगी जमात से जुडे मामलों के बारे में पुण्‍य सलिला श्रीवास्‍तव ने कहा-



सभी राज्‍य सरकारों के साथ गृह मंत्रालय ने एक मेगा अभियान द्वारा लगभग साढे पच्‍चीस हजार से ज्यादा लोकल टी जे कार्यकर्ता और उनके संपर्क में आए लोगों को पहचान करके उनका क्‍वारंटाइन किया है। इसके अलावा हरियाणा के पांच गांव जहां पर ये फोरन नेशनल टी जे नेशनल वर्कर रहे थे उनको भी सील करके क्‍वारंटाइन कर दिया गया है। अभी तक जो 2083 फोरन टी जे वर्कर्स आइडेंटीफाइ किए गए थे उसमें से 1750 को ब्‍्लैकलिस्‍ट कर दिया है।

------------

केंद्र ने कोविड-19 महामारी पर नियंत्रण के लिए नेशनल पार्क, वन्‍य जीव अभयारण्‍यों और बाघ संरक्षण अभयारण्‍यों के बारे में राज्‍यों और केंद्रशासित प्रदेशों को परामर्श जारी किया है। बाघों के कोविड-19 से संक्रमित होने की हाल की खबरों के मद्देनज़र पर्यावरण मंत्रालय ने राज्‍यों और केंद्रशासित प्रदेशों को पत्र लिखा है। उन्‍हें मानव से पशुओं में और पशुओं से मानव में वायरस को फैलने से रोकने के तुरंत उपाय करने को कहा गया है। पशुओं से मनुष्‍यों के सम्‍पर्क को सीमित करने और वन्‍य जीव अभयारण्‍यों, बाघ संरक्षण अभयारण्‍यों और नेशनल पार्क में लोगों की आवाजाही को प्रतिबंधित करने को कहा गया है।

------------

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि भारत उन देशों में से है, जिसने कोविड-19 की गंभीरता को समय रहते भांप लिया और तुरंत एहतियाती कदम उठाये। आज भारतीय जनता पार्टी के 40वें स्‍थापना दिवस पर पार्टी कार्यकर्ताओं को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये संबोधित करते हुए उन्‍होंने कहा कि भारत ने दुनिया के सामने महामारी से निपटने का नया उदाहरण प्रस्‍तुत किया है।    



जो भी आवश्‍यक निर्णय करने की जरूरत पड़ी। एक्‍सपर्ट की मदद से करते रहे। एयरपोर्ट पर विदेशों से आने वाले लोगों के थर्मल स्‍क्रीनिंस्‍क्रीनिंग हों, विदेश में फंसे भारतीयों को स्‍वदेश लाने की बात हो, दुनिया के कई देशों से भारत में आने वाले हवाई यातायात को बंद करने का बड़ा कठिन निर्णय हो, मेडिकल इंफ्रास्‍टेक्‍चर को इस महामारी से निपटने के लिए तैयार करने के लिए प्रयास हों, भारत एक के बाद एक प्रोएक्टिव होकर के फैसले करता गया। राज्‍य सरकारों के सहयोग से इन फैसलों को गति भी दी। भारत ने जितनी तेजी से काम किया है। होलिस्टिक एपरोच के साथ काम किया है। आज उसकी प्रशंसा सिर्फ भारत में ही नहीं, वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गेनाइजेशन डब्‍ल्‍यू एच ओ ने भी की है।


श्री मोदी ने कहा कि देश आज कोविड-19 को समाप्‍त करने के मिशन के प्रति एकजुट है। यह एक लंबी लड़ाई है, लेकिन भारत न थकेगा, न हारेगा। प्रधानमंत्री ने मौजूदा परिस्थिति से निपटने में परिपक्‍वता का परिचय देने के लिए देशवासियों की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह अभूतपूर्व है। 

कल रात नौ बजे नौ मिनट के लिए देशभर में बिजली बंद कर दीये जलाने का जिक्र करते हुए उन्‍होंने कहा कि यह पूरे देश की एकजुटता की शक्ति का प्रदर्शन था। 


सभी ने मिलकर एकजुटता की इस ताकत को उसका साक्षात्‍कार किया। कोरोना के खिलाफ लड़ाई का अपना संकल्‍प और मजबूत किया और जो मूलभाव था। मैं अकेला नहीं हूं। इस लड़ाई में मैं अकेला नहीं हूं। मैं भले घर में बैठा हूं, लेकिन पूरा देश लड़ रहा है। इस चीज को कल लोगों ने एहसास फिर से एकबार आपने खुद महसूस किया होगा। गांव, देहात से लेकर के बड़े शहरों तक असंख्‍य दीयों ने प्रकाश ने कोरोना संकट के अंधेरे को उस हताश निराशा को दूर करने में एक-एक नागरिक का हौंसला बुलंद करने में मदद की। 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का महाप्रयास और उससे जन्‍में महाप्रकाश ने देशवासियों को लंबी लड़ाई के लिए तैयार किया है।


प्रधानमंत्री ने कहा कि शुरू से ही, राष्‍ट्र प्रथम भारतीय जनता पार्टी का मंत्र रहा है। उन्‍होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से पांच अपील करते हुए कहा कि वे गरीबों को राशन और अपने अलावा पांच से छह लोगों को मास्‍क उपलब्‍ध कराने के लिए अभियान जारी रखें। श्री मोदी ने उनसे कहा कि वे लोगों को आरोग्‍य सेतु ऐप का उपयोग करने को कहे। उन्‍होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे पीएम केयर्स कोष में दान दें और 40 अन्‍य लोगों को भी ऐसा करने को कहें। प्रधानमंत्री ने कहा कि कार्यकर्ताओं को इस मुश्किल घड़ी में देश की सेवा में जुटे लोगों के प्रति कृतज्ञता अभिव्‍यक्‍त करनी चाहिए।


हमारी पार्टी का स्‍थापना दिवस हम सब के लिए एक प्रेरणा का अवसर होता है। नये संकल्‍पों का पल होता है। देश के लिए, समाज के लिए, कुछ कर गुजरने के लिए कृतसंकल्‍प होने का ये पल होता है। लेकिन इस बार का ये स्‍थापना दिवस एक ऐसे कालक्रम में आया है देश ही नहीं पूरी मानव जात के सामने एक संकट पैदा हुआ है। चुनौतियों भरा ये वातावरण देश की सेवा के लिए हमारे, संस्‍कार हमारे समर्पण हमारी प्रतिबद्धता इन सबको लेकर के और अधिक सशक्‍त होकर के प्रसस्‍त होने का मार्ग तय करता है। 


श्री मोदी ने डॉक्‍टर श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी, दीनदयाल उपाध्‍याय और कुशाभाऊ ठाकरे को याद करते हुए कहा कि इन नेताओं ने अनुकरणीय उदाहरण प्रस्‍तुत किये और अपना जीवन राष्‍ट्र सेवा के प्रति समर्पित कर देने वाले पार्टी के इन वरिष्‍ठ कार्यकर्ताओं से बहुत कुछ सीखा जा सकता है।

------------

सरकार ने आज से विदेशों से आपूर्ति शुरू की है। आज चीन से एक लाख 70 हजार व्‍यक्तिगत सुरक्षा किट प्राप्‍त की गई। इनमें, देश की बीस हजार किट को मिलाकर कुल एक हजार 90 हजार किट अस्‍पतालों में भेजी जायेगी। इससे पहले तीन लाख 87 हजार चार सौ 73 किट पहले ही देश में उपलब्‍ध है। सरकार ने अब तक दो लाख 94 हजार व्‍यक्तिगत सुरक्षा किट का प्रबंध और आपूर्ति की है। इसके अलावा देश में निर्मित दो लाख एन-95 मास्‍क भी विभिन्‍न अस्‍पतालों में भेजे जा रहे हैं। देश में लगभग 16 लाख मास्‍क पहले से उपलब्‍ध कराये गये हैं। ताजा आपूर्ति का अधिकतर भाग उन राज्‍यों को भेजा जा रहा है जहां कोविड-19 के अधिक रोगी हैं। ये राज्‍य हैं-  तमिलनाडु, महाराष्‍ट्र, दिल्‍ली, केरल, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और राजस्‍थान। इन्‍हें विभिन्‍न संस्‍थानों- एम्‍स, सफदरजंग, राममनोहर लोहिया अस्‍पताल, आआईएमएस, बीएचयू और एएमयू में भेजा जा रहा है।

------------

केन्‍द्र ने लॉकडाउन के दौरान चिकित्‍सा सामग्री और आवश्‍यक वस्‍तुओं की उपलब्‍धता सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाये हैं। इनमें नागर विमानन मंत्रालय की लाइफलाइन उड़ान सेवा शामिल है। इसके लिए पूर्वोत्‍तर क्षेत्रों, द्वीपीय इलाकों और पर्वतीय राज्‍यों पर विशेष ध्‍यान दिया जा रहा है। एक रिपोर्ट:-



देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में आवश्‍यक चिकित्‍सा सामानों की आपूर्ति के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय लाइफलाइन उडानें संचालित कर रहा है। एयर इंडिया, एलाइंस एयर, भारतीय वायु सेना, पवन हंस और निजी ऑपरेटर 116 उडानें के जरिये अब तक लगभग 161 टन सामान की  ढुलाई कर चुके हैं। ढुलाई की गई सामग्रियों में अधिकांशत: मास्‍क, दस्‍ताने और अन्‍य उपभोक्‍ता सामान शामिल है। पूर्वोत्‍तर क्षेत्रों, द्वीपों  और पहाडी राज्‍यों पर विशेष ध्‍यान केंद्रित किया है। स्‍पाइस जेट, ब्‍लू डाट और इडिगो जैसे घरेलू कार्गो ऑपरेटर भी जनता को आवश्‍यक वस्‍तुएं प्रदान करने के लिए वाणिज्यिक आधार पर उडानों का संचालन कर रहे हैं। इन ऑपरेटरों द्वारा ढुलाई किए गए सामानों में चिकित्‍सा आपूर्ति भी शामिल है जो सरकार के लिए नि:शुल्‍क है। सुपर्णा सेकिया के साथ भूपेन्‍द्र सिंह, आकाशवाणी समाचार, दिल्‍ली।

------------

महाराष्‍ट्र के मुम्‍बई में आज 57 लोगों में कोविड-19 के संक्रमण की पुष्टि हुई। इसके साथ ही महानगर में संक्रमित लोगों की संख्‍या चार सौ 90 हो गई। चार लोगों की मृत्‍यु के साथ ही मुम्‍बई में कोविड-19 से मृतकों की संख्‍या 34 हो गई। मुम्‍बई के निजी अस्‍पताल में तीन डॉक्‍टरों और 26 नर्सों में संक्रमण की पुष्टि हुई है।

------------

राजधानी में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के 20 नए मामले आए हैं और एक व्यक्ति की मौत हुई है। 20 नए मामले में से 10 मरकज के हैं। दिल्ली में अब तक कोरोना से सात लोगों की मौत हो चुकी है। राजधानी में फिलहाल 523 कोरोना के मरीज है। राजधानी में पिछले कुछ दिनों में जांच की प्रक्रिया को तेज कर दी गई है। पिछले महीने की 25 तारीख को जहां 100 से 125 लोगों की जांच हो रही थी। वहीं एक अप्रैल से 500 से 1000 लोगों की जांच की जा रही है। इस बीच, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि केंद्र सरकार की ओर से दिल्ली सरकार को 27 हजार पीपीई किट्स दी जाएंगी। उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार मिलकर काम कर रहे हैं।

------------

उत्‍तर प्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस के मरीजों की बढती संख्‍या पर चिंता व्‍यक्‍त की है और कहा है कि कोविड-19 के फैलाव को रोकने के लिए सभी हरसंभव प्रयास जारी है। आज लखनऊ में अपर मुख्‍य सचिव सूचना ओर गृह अवनीश अवस्‍थी ने बताया कि सरकार राज्‍य में कोरोना जांच केंद्रों की संख्‍या बढ़ा रही है। 24 मेडिकल कॉलेजों को कोरोना जांच की सुविधाओं से लैस किया जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि राज्‍य में अब तक कोविड-19 के 305 मरीज हैं जिसमें से एक सौ उनसठ तब्‍लीगी जमात से हैं।

------------

बिहार में पश्चिमी चंपारण जिले में तलाशी अभियान के दौरान दिल्‍ली में तब्‍लीगी जमात में शामिल 27 लोगों की पहचान की गई है। ये सभी लोग राज्‍य से बाहर के हैं। इन सभी को मदरसा और स्‍कूलों में क्‍वारंटीन में रखा गया है। प्रशासन ने इनके स्‍वास्‍थ्‍य की जांच के आदेश दिये हैं। राज्‍य के पुलिस महानिदेशक गुप्‍तेश्‍वर पाण्‍डे ने कहा है कि जमात से लौटे 248 में से 140 लोगों की पहचान कर ली गई है।

------------

राजस्‍थान में आज कोविड-19 के बाईस नए मामले सामने आए हैं। इन्‍हें मिलाकर राज्‍य में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्‍या दो सौ 88 हो गई है। हमारे संवाददाता ने बताया कि ईरान से लौटे दो लोगों में भी संक्रमण पाया गया है।



अप्रैल माह शुरू होने के बाद से कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढे हैं। राजधानी जयपुर में बड़ी संख्या में कोरोना के रोगी सामने आ रहे हैं। राज्य के 33 में से 22 जिले कोरोना की जद में आ चुके हैं। संक्रमित लोगों की संख्या बढने के पीछे एक कारण यह भी माना जा रहा है कि पिछले कुछ दिनों में संदिग्ध मरीजों की जांच तीन से चार गुना बढाई गयी है। हालांकि सुकून की खबर यह है कि कोरोना का हॉटस्पॉट बने भीलवाड़ा में अब स्थिति तेजी से नियंत्रित होती जा रही है। साथ ही राज्य के 14 जिलों में संक्रमित मरीजों की संख्या महज पांच अथवा उससे कम है। 35 से ज्यादा मरीज इस बीमारी से ठीक हो चुके हैं, जिनमें से कई मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी है। राज्य सरकार द्वारा सभी जिलों में कम से कम एक अस्पताल चिन्हित किया गया है, जहां केवल कोरोना मरीजों का उपचार होगा। पूरे राज्य में ऐसे अस्पतालों की संख्या आने वाले दिनों में और बढाई जायेगी। जितेन्द्र द्विवेदी, आकाशवाणी समाचार, जयपुर। 

------------

मध्‍य प्रदेश के भोपाल में आज 14 और मामले सामने आएं। इन्‍हें मिलाकर राज्‍य में ऐसे मामलों की संख्‍या 54 हो गई है। राज्‍य में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्‍या दो सौ को पार कर गई है। अब तक 16 लोगों की मौत हो गई है। एक रिपोर्ट--



जिला प्रशासन ने रविवार आधी रात से भोपाल में सख्ती से पूर्ण तालाबंदी लागू कर दी है। भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोडे ने कहा कि लॉक डाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।



भोपाल में कोरोना के केसेज विगत कुछ दिनों में काफी बढ़े हैं। ये केसेज दो-तीन जगह से मेनली आए हैं। अभी भी हमारे शहर में ऐसा नहीं कि ये केसेज स्‍प्रेड हो रहे हैं लेकिन बहुत सावधानी की जरूरत है। 

वहीँ, प्रदेश से अच्छी खबरें भी मिल रहीं हैं. अब तक जबलपुर के छह, इंदौर के दो और ग्वालियर के एक मरीज को इस बीमारी से ठीक होने  के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। संजीव शर्मा, आकाशवाणी समाचार, भोपाल।

-----------

छत्‍तीसगढ़ में 90 प्रतिशत कोविड-19 रोगियों को उपचार के बाद अस्‍पताल से छुट्टी दे दी गई। राज्‍य में पिछले 20 दिनों में दस लोग संक्रमित हुए थे। इनमें से नौ लोगों को उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। छत्‍तीसगढ़ में सबसे पहले एक महिला संक्रमित हुई थी। उसे उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई है। महिला ने आकाशवाणी से बातचीत में कहा कि सामाजिक दूरी नोवेल कोरोना वायरस से बचाव की कुंजी है।


मैं सभी को यह ही कहना चाहूंगी कि इससे हम भयभीत न हो। ये एक नोर्मल वायरस है जिसमें फ्लू जैसे सिमटम्स होते हैं सर्दी, खांकी, बुखार और यदि हमें लग रहा है कि हम संक्रमित हो सकते हैं और हम में कुछ सिमटम्‍स आ रहे हैं तो हम स्‍वयं खुद इनिसेटिव लेकर मेडिकल स्‍टाफ की मदद लें, हॉस्पिटल जाएं और अपना चेकअप कराएं। सबसे जरूरी बात इसमें यह है कि इसमें संक्रमण बहुत तेजी से फैलता है। तो हम ये याद रखें कि जब हमें लगे रहा है कि हम संक्रमित हो सकते हैं तो अपने आप को सेल्‍फ आइसोलेट करके रखें। जैसा कि हमारी सरकारी बोल रही है कि हम सब सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करें और समय-समय पर अपने हाथ धोएं और अपनी इमयूटि स्‍ट्रॉंग करके रखें।

------------

तमिलनाडु में पचास नए मामलों की पुष्टि होने के साथ ही राज्‍य में संक्रमित लोगों की संख्‍या छह सौ इक्‍कीस हो गई है। इनमें से 48 दिल्‍ली में जमात के कार्यक्रम में भाग लेने वाले लोग हैं। इसके साथ ही जमात के कार्यक्रम से जुडे संक्रमित लोगों की संख्‍या 573 हो गई हैं।

------------

कर्नाटक के बेंगलुरू में कोविड-19 महामारी के बारे में आंकड़े उपलब्‍ध कराने के लिए कल डैशबोर्ड का उद्घाटन किया जाएगा। यह डैशबोर्ड तिथि, जोन, अस्‍पताल और रोगियों के अनुसार दैनिक आंकड़े उपलब्‍ध कराएगा।

------------

रेलवे ने कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए दो हजार पांच सौ डिब्‍बों को आइसोलेशन कोच बना दिया है। किसी भी आकस्मिक स्थिति के लिए 40 हजार आइसोलेशन बिस्‍तर तैयार हैं। एक रिपोर्ट-



भारतीय रेलवे द्वारा रोजाना औसतन 375 कोचों को आइसोलेशन कोच में बदला जा रहा है। रेलवे ने पांच हजार कोचों को आइसोलेशन कोच में बदलने का लक्ष्‍य निर्धारित किया है। यह कार्य देश के 133 स्‍थानों पर किया जा रहा है। ये कोच जारी किए गए चिकित्‍सा परामर्श के तहत तैयार किए गए हैं और इसमें जरूरतों और नियमों के तहत सर्वश्रेष्‍ठ विश्राम और चिकित्‍सा निगरानी सुनिश्चित किया जा रहा है। इन आइसोलेशन कोचों को सिर्फ आपात स्थिति के लिए तैयार किया जा रहा है। ताकि कोरोना वायरस की लडाई में सरकार के प्रयासों को और मजबूती मिल सके। मोहम्‍मद नसीम के साथ आनंद कुमार, आकाशवाणी समाचार, दिल्‍ली।

------------

भारतीय रेलवे ने लॉकडाउन के बाद से माल ढुलाई संचालन से जुड़े मुद्दों और यात्रियों तथा नागरिकों की सहायता के लिए रेल नियंत्रण कार्यालय के जरिये एक लाख 25 हजार से अधिक शंकाओं का निवारण किया है। रेल नियंत्रण कक्ष अपनी हेल्‍पलाइन नंबर 1 3 9 और 1 3 8, सोशल म‍ीडिया मंचों तथा ई-मेल railmadad@rb.railnet.gov.in. के जरिये दिन-रात काम रहा है।

------------

विभिन्‍न माध्‍यमों पर प्रसारित की जा रही झूठी खबरों से सतर्क करने के प्रयास के तहत हमने आपके के लिए एक नई श्रृंखला फेक्ट चैकिंग एंड मिथबस्‍टर्स यानी तथ्‍य की जांच और मिथक तोड़ना शुरू की है। सबसे खतरनाक वायरस पर नियंत्रण के लिये लॉकडाउन के दौरान विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के प्रोटोकॉल और प्रक्रिया के बारे में सोशल मीडिया पर कुछ खबरें आ रही हैं। इस संदर्भ में यह कहा गया है कि ऐसी खबरें झूठी हैं। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन से इन तथ्‍यों की जांच की गई है। उसके अनुसार ऐसा कोई प्रोटोकॉल मौजूद नहीं है। अधिकारियों ने एक बार फिर लोगों को आगाह किया है कि वे इस तरह की भ्रामक सूचनाओं से सतर्क रहें और इनसे प्रभावित न हों।

------------

विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग - यूजीसी ने सभी विश्‍वविद्यालयों और कॉलेजों को निर्देश दिया है कि लॉकडाउन के दौरान विद्यार्थियों के तनाव को दूर करने के लिए स्‍वास्‍थ्‍य हेल्‍पलाइन तैयार करे। आयोग के सचिव रजनीश जैन ने कुलपतियों को लिखे पत्र में कहा है कि कोविड-19 के कारण उत्‍पन्‍न मौजूदा स्थिति में पढ़ाई, स्‍वास्‍थ्‍य और अन्‍य मुद्दों को लेकर विद्यार्थियों के किसी भी तरह के तनाव का निवारण करना जरूरी है।

------------

उच्‍चतम न्‍यायालय ने देश की सभी अदालतों के लिए न्‍यायिक कार्यवाही में वीडियो कॉन्‍फ्रेंस का व्‍यापक रूप से इस्‍तेमाल करने के निर्देश जारी किए हैं। इसमें कहा गया है कि सुरक्षित दूरी बनाए रखने के लिए वकीलों और वादियों-प्रतिवादियों की भीड़ से बचा जाए। न्यायालय ने कहा कि इस म‍हामारी के कारण सुरक्षित दूरी बनाए रखना आवश्‍यक है। यह सुनिश्चित करना आवश्‍यक है कि अदालतों के परिसर वायरस फैलने का कारण न बनें।

------------

रक्षा मंत्रालय के तहत ऑर्डनेंस फैक्‍ट्री बोर्ड कोविड-19 महामारी पर नियंत्रण के लिए किफायती आइसोलेशन इकाई के रूप में संशोधित टैंट तैयार कर रहा है। ये टैंट आयुध निर्माणी कानपुर में असेम्‍बल किए जा रहे हैं। ये सैन्‍य उपयोग के टैंटों से तीस प्रतिशत सस्‍ते हैं। आयुध निर्माणी टैंट में दो रोगी रह सकते हैं और इसमें कोविड-19 से निपटने के लिए सभी आवश्‍यक चिकित्‍सा उपकरण उपलब्‍ध हैं।

------------

जाने-माने क्रिकेटर हरभजन सिंह ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए लोगों से घरों में रहने का आग्रह किया है।



हम अगर घरों में बैठेंगे तो फिर कोरान वायरस का खात्‍मा बहुत जल्‍दी से हम भारत से कर सकते हैं। तो आप सब के सहयोग की जरूरत है क्‍योंकि भारत को अगर बचाना है हर एक नागरिक को यहां पर अगर बचाना है तो आप सबकी जिम्‍मेदारी बनती है कि आप  कंधे से कंधा मिलाकर इस मुहिम में जु‍डिए। तो एक छोटी सी विनती है मेरी आप सबसे आप स्‍वस्‍थ रहिए, सुखी रहिए बट घरों में बने रहिए और सबके लिए दुआ करिए जो इस बीमारी से जुझ रहे हैं कि वे जल्‍दी से ठीक हों और ये भी दुआ करिए कि नर्सिस, डॉक्‍टर, पुलिस वाले इस काम में जुटे हुए हैं दिन-रात अपने परिवारों को छोडकर उनके  वेल बींग की भी आप दुआ करिए क्‍योंकि दुआएं जो हैं बहुत कुछ बदल सकती हैं और जरूर बदलेंगी और ये जंग हम जरूर इकट्ठे मिलकर जीते सकते हैं।


लोकप्रिय गजल गायक अहमद हुसैन और महमूद हुसैन ने भी लोगों से घरों में रहने का अनुरोध किया है।



अनुरोध है हमारा आपसे कि यू ही बेसबब न फिरा करो किसी शाम घर भी रहा करो। लॉकडाउन का पालन करें। सरकारों को आज सहयोग करें चाहे वो केन्‍द्र की सरकार से लेकर हमारी राज्‍यों की सरकारें क्‍यों ना हों। तो हमारी इल्‍तजा है कि आपके पूरे परिवार का ध्‍यान रखें इस प्रकार कि अपने घर को सैनिटाइज कराए, बच्‍चों को सेनिटाइजर से हाथ वॉश कराते रहें। इसका ध्‍यान रखें ये कोई जरूरी नहीं कि आप घर से बाहर जाएं। रूख ए इंसान निखर जाए अगर सब एक हो जाएं, ये गुलशन फिर संवर जाएं अगर सब एक हो जाएं। ये कोरोना का जो बढ़ता हुआ तूफां है दुनिया में दबे पांव गुजर जाएं अगर सब एक हो जाएं।


------------

देश के नागरिकों ने विश्‍वास व्‍यक्‍त किया है कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के नेतृत्‍व में एनडीए सरकार कोविड-19 से उत्‍पन्‍न संकट से कारगर तरीके से निपट रही है। एक मीडिया संगठन के सर्वेक्षण के अनुसार लगभग 83 प्रतिशत लोगों का मानना है कि सरकार स्थिति से अच्‍छे तरीके से निपट रही है। भारत उस तालिका में पहले स्‍थान पर है जहां की जनता कोविड-19 महामारी से निपटने में सरकार के प्रयासों से संतुष्‍ट है।

------------

आकाशवाणी का समाचार सेवा प्रभाग आज अपने फोन इन कार्यक्रम में हिन्‍दी और अंग्रेजी में कोविड-19 पर विशेष परिचर्चा प्रसारित करेगा। वरिष्‍ठ मनोचिकित्‍सक डॉक्‍टर अवधेश शर्मा इस परिचर्चा में भाग लेंगे। श्रोता टोल फ्री नंबर 1 8 0 0 - 1 1 - 5 7 6 7 पर स्‍टूडियो में मौजूद विशेषज्ञों से सवाल पूछ सकते हैं। आप 0 1 1 - 2 3 3 1 - 4 4 4 4 पर भी कॉल कर सकते हैं।


यह कार्यक्रम आज रात नौ बजकर 10 मिनट से एफ एफ गोल्‍ड चैनल और अतिरिक्‍त मीटरों पर सुना जा सकता है। कार्यक्रम हमारी वेबसाइट NEWS ON AIR DOT COM और हमारे यू-ट्यूब चैनल NEWS ON AIR OFFICIAL पर भी उपलब्‍ध रहेगा। श्रोता NEWS ON AIR ऐप का भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

------------


Live Twitter Feed

Listen News

Morning News 29 (May) Midday News 29 (May) News at Nine 28 (May) Hourly 29 (May) (1300hrs)
समाचार प्रभात 29 (May) दोपहर समाचार 28 (May) समाचार संध्या 28 (May) प्रति घंटा समाचार 29 (May) (1305hrs)
Khabarnama (Mor) 29 (May) Khabrein(Day) 29 (May) Khabrein(Eve) 28 (May)
Aaj Savere 29 (May) Parikrama 28 (May)

Listen Programs

Market Mantra 28 (May) Samayki 28 (May) Sports Scan 23 (Mar) Spotlight/News Analysis 28 (May) Samachar Darshan 22 (Mar) Radio Newsreel 21 (Mar)
    Public Speak

    Country wide 12 (Mar) Surkhiyon Mein 10 (May) Charcha Ka Vishai Ha 11 (Mar) Vaad-Samvaad 17 (Mar) Money Talk 17 (Mar) Current Affairs 6 (Mar)
  • Money Matters 22 (Mar)
  • International News 22 (Mar)
  • Press Review 23 (Mar)
  • From the States 23 (Mar)
  • Let's Connect 22 (Mar)
  • 360°- Ek Parivesh 23 (Mar)
  • Know Your Constitution 30 (Jan)
  • Ek Bharat Shreshta Bharat 22 (Mar)
  • Sanskriti Darshan 23 (Mar)
  • Fit India New India 23 (Mar)
  • Weather Report 21 (Mar)
  • North East Diaries 22 (Mar)
  • 150 Years of Bapu 22 (Mar)
  • Sector Specific Discussions 22 (Mar)