A- A A+
Last Updated : Jun 3 2020 8:12AM     Screen Reader Access
News Highlights
PM Modi, US President discuss emerging realities of post COVID world; Trump invites PM to G7 summit later this year            Cyclone Nisarga to make landfall in Maharashtra and Gujarat this afternoon            Pakistan remains epi-center of international terrorism, reiterates India citing UN Security Council report            57 Lakh migrant workers transported so far by Shramik Special Trains, says Railways            2200 Indians to be flown back from Gulf today under Vande Bharat Mission           

Text Bulletins Details


समाचार प्रभात

0800 HRS
07.04.2020

मुख्यसमाचारः-

  •    प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी नेमंत्रियों से कोविड-19 की स्थिति पर लगातार नजर रखने और लाभार्थियों तक गरीब कल्‍याणयोजना का लाभ सुनिश्चित करने को कहा।

  •    केन्‍द्र ने राज्‍यों से लॉकडाउनके दौरान उपचार के लिए ऑक्‍सीजन की निर्बाध आपूर्ति बनाये रखने पर विशेष ध्‍यान देनेको कहा।

  •    आयुध निर्माणी बोर्ड कोविड-19रोकने के लिए कम लागत की आइसोलेशन यूनिट के रूप में परिष्‍कृत तम्‍बू तैयार करेगा।

  •          केन्‍द्र ने राज्‍यों और केन्‍द्रशासित प्रदेशों से कोरोना वायरस के मानव से पशुओं और पशुओं से मानव में प्रसार पर रोकलगाने के लिए तत्‍काल उपाय करने को कहा।

  •    बिहार सरकार ने देश के विभिन्‍नभागों में फंसे एक लाख से अधिक प्रवासी कामगारों के खातों में एक-एक हजार रुपये भेजे। 

--------------

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्रमोदी ने कल केन्‍द्रीय मंत्रियों से बातचीत में कोविड-19 से निपटने में दृढ़संकल्‍पऔर जागरूकता के महत्‍व पर जोर दिया। उन्‍होंने मंत्रियों से कहा कि वे राज्‍य और जिलाप्रशासन से सम्‍पर्क बनाये रखें और उनकी समस्‍याओं का समाधान करें। प्रधानमंत्री नेमंत्रियों से कोविड-19 की स्थिति पर नजर रखने को कहा। उन्‍होंने संबंधि‍त मंत्रालयोंसे यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया कि गरीब कल्‍याण योजना का लाभ लाभार्थियों तक सुचारूरूप से पहुंच सके।

हमारेआसपास दुखियारों के बीच जाना है, उनके आंसू पोंछना है, उनको मदद करना है। यह जरूर यादरखिए कि जब भी बाहर निकलें तो फेस कवर तो होना ही चाहिए। मैं तो कहता हूं घर में भीहोना चाहिए और आज पूरी दुनिया के लिए एक ही मंत्र है, सोशल डिस्‍टेसिंग और अनुशासनका पूरा पालन करना।

प्रधानमंत्री ने मंत्रियोंसे कहा कि वे राज्‍य और जिला प्रशासन से संपर्क बनाये रखें और उनकी समस्‍याओं का समाधानकरें तथा जिला स्‍तर पर छोटी योजनाएं बनायें। उन्‍होंने किसानों को मंडियों से जोड़नेके लिये ऐप आधारित कैब सेवा की तर्ज पर ट्रक एग्रिगेटर्स जैसे नवीन तरीकेके इस्‍तेमाल की सम्‍भावना का पता लगाने पर बल दिया। उन्‍होंने मंत्रियों से कहा किवे लॉकडाउन समाप्‍त होने के बाद प्रत्‍येक मंत्रालय के लिये दस प्रमुख निर्णयों औरदस प्राथमिक क्षेत्रों की पहचान करें। प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना के खिलाफ हमारेएकजुट संघर्ष ने हमारा संकल्‍प और मजबूत किया है।

सभी ने मिलकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई का अपनासंकल्‍प और मजबूत किया और जब मूल भाव था, इस लड़ाई में मैं अकेला नहीं हूं मैं भलेही घर में बैठा हूं लेकिन पूरा देश लड़ रहा है, इस चीज को लोगों ने अहसास फिर से कियाहोगा। गांव देहात से लेकर बड़े शहरों तक असंख्‍य दीयों ने प्रकाश ने कोरोना संकट केअंधेरे को उस हताश निराशा को दूर करने में एक-एक नागरिक का हौसला बुलंद करने में मददकी।

--------------

केन्‍द्र ने राज्‍यों कोलॉकडाउन अवधि में चिकित्‍सा ऑक्‍सीजन की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित रखने पर विशेष ध्‍यानदेने को कहा है। गृह सचिव अजय कुमार भल्‍ला ने कोविड-19 महामारी को देखते हुए सभी राज्‍योंके गृहसचिवों को पत्र लिखकर उपचार के लिए ऑक्‍सीजन की पर्याप्‍त आपूर्ति बनाए रखनेका निर्देश दिया है। ऑक्‍सीजन आवश्‍यक दवाओं की राष्‍ट्रीय और विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍यसंगठन सूची में भी शामिल है। केन्‍द्रीय गृह सचिव ने बताया कि ऑक्‍सीजन और अन्‍य चिकित्‍सासामग्री की निर्माण इकाइयों, उत्‍पादित सामग्री के परिवहन तथा फैक्‍ट्री कामगारों कोलॉकडाउन से छूट दी गई है।

गृह सचिव ने कहा कि संगठनऔर प्रतिष्‍ठानों के प्रमुखों की जिम्‍मेदारी है कि वे सुरक्षित दूरी बनाए रखने औरसमुचित साफ-सफाई रखने के निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित कराएं। जिला अधिकारियों कोभी सख्‍ती से नियम पालन कराने को कहा गया है।

--------------

सरकार ने चीन से एक लाख70 हजार व्‍यक्तिगत सुरक्षा उपकरण-पीपीई कवरॉल मिलने के बाद विदेशों से सप्लाई लाइनखोल दी है। ये पीपीई भारत को सहायता के तौर पर मिले हैं। बीस हजार कवरऑल्‍स की घरेलूआपूर्ति के साथ ही अब कुल एक लाख 90 हजार कवरॉल अस्पतालों में वितरित किए जाएंगे। इसकेअलावा देश में पहले से ही तीन लाख 87 हजार चार सौ 73 पीपीई उपलब्‍ध हैं। 

इसके अतिरिक्‍त देश में निर्मित दो लाख एन-95 मास्क भी विभिन्न अस्पतालों में भेजेजा रहे हैं। इस समय देश में लगभग 16 लाख एन-95 मास्क उपलब्ध हैं। नई आपूर्ति का अधिकतरहिस्‍सा तमिलनाडु, महाराष्ट्र, दिल्ली, केरल, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और राजस्थान जैसेअधिक संक्रमण वाले राज्‍यों को दिया जा रहा है। एम्‍स, सफदरजंग और राम मनोहर लोहियाअस्‍पताल, रिम्‍स, बीएचयू और एएमयू जैसे केन्‍द्रीय संस्‍थानों को भी इन उपकरणों कीआपूर्ति की जा रही है।

एक बयान में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कहा है विदेशी आपूर्ति शुरू होने से कोविड-19के खिलाफ लड़ाई में व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण खरीदने के भारत के प्रयासों में एक औरबड़ी उपलब्‍धि‍ जुड़ गयी है।

इससे पहले सिंगापुर स्थित एक प्‍लेटफार्म को एन-95 मास्क सहित 80 लाख पूर्ण पीपीई किट का ऑर्डर दिया गया था। अबयह जानकारी दी गयी है कि आपूर्ति इस महीने की 11 तारीख से शुरू होगी और पहले दो लाखउपकरणों के आने की उम्‍मीद है। इसके बाद एक सप्‍ताह के भीतर आठ लाख और उपकरण प्राप्‍तहो जायेंगे। मंत्रालय ने कहा कि 60 लाख पूर्ण पीपीई किट का ऑर्डर देने के लिए चीनीमंच के साथ बातचीत अंतिम चरण में चल रही है इन उपकरणों में एन-95 मास्क भी शामिल हैं।

घरेलू क्षमताओं के और बढ़ाने केलिए उत्तर रेलवे ने एक पीपीई कवरॉल विकसित किया है। यह इससे पहले डीआरडीओ द्वारा विकसितपीपीई कवरऑल्‍स और एन-99 मास्क के अलावा है। अब इन उत्पादों का बड़े पैमाने पर उत्पादनशुरू करने का प्रयास किया जा रहा है।

--------------

सरकार ने विटामिन बी-1और बी-12 सहित 24 भेषज सामग्री और औषधियों पर निर्यात प्रतिबंधों में छूट दी है। विदेशव्‍यापार महानिदेशालय ने कल इस संबंध में अधिसूचना जारी की। निदेशालय ने पिछले महीने26 भेषज सामग्री और औषधियों पर निर्यात पाबंदी लगाई थी। इसके तहत निर्यातक को निदेशालयसे लाइसेंस या अनुमति लेना जरूरी था। कुछ औषधि कंपनियों ने इन प्रतिबंधों पर आपत्तिकी थी।

विटामिन बी-1, बी-6 औरबी-12 के अलावा टाइनाइडेज़ॉल, मैट्रोनाइडेज़ॉल, एसिक्‍लोविर, प्रोजेस्‍टेरोन, क्‍लोराम्‍फेनिकॉल,ओर्निडेज़ॉल, क्‍लोराम्‍फेनिकॉल उत्‍पाद, क्लिंडामाइसिन साल्‍ट उत्‍पाद और नियोमाइसिनउत्‍पादों के निर्यात पर पाबंदी हटाई गई है।

--------------

देशभर में कोविड-19 केचार हजार दो सौ 81 मामलों की पुष्टि हुई है। इनमें से 318 रोगी ठीक हुए हैं और उन्‍हेंअस्‍पताल से छुट्टी दे दी गई है, जबकि एक सौ 11 लोगों की मृत्‍यु हुई है। नई दिल्‍लीमें संवाददाताओं से बातचीत में स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण विभाग के संयुक्‍त सचिवलव अग्रवाल ने कहा कि 76 प्रतिशत मामलों की पुरूषों में और 24 प्रतिशत की पुष्टि महिलाओंमें हुई है।

श्री लव अग्रवाल ने बतायाकि लॉकडाउन के दौरान भारतीय खादय निगम के केन्‍द्रीय भंडारों में पर्याप्‍त मात्रामें अनाज उपलब्‍ध है।    

इस लॉकडाउनकी अवधि में देशभर में 605 रैक के द्वारा लगभग 16.94 लाख मीट्रिक टन फूड ग्रेन ट्रांसपोर्टभी किया है। अब तक फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के द्वारा इस मॉडल के द्वारा 13 स्‍टेट्समें 1.3 लाख मीट्रिक टन व्‍हीट और 8 स्‍टेट्स में 1.32 लाख मीट्रिक टन राइस अलॉट कियागया है। साथ ही 4 अप्रैल को सेंट्रल पूल में फूड कॉरपोरेशन के पास अभी 55.47 लाख मीट्रिकटन अनाज अभी भी है।

श्री अग्रवाल ने कहा किकोविड-19 के प्रबंधन के लिए राज्‍यों को राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मिशन के अंतर्गत ग्‍यारहसौ करोड़ रुपये दिए गए हैं और कल तीन हजार करोड़ रुपये की अतिरिक्‍त राशि जारी की गईहै।

गृह मंत्रालय की संयुक्‍तसचिव पुण्‍य सलिला श्रीवास्‍तव ने कहा कि लॉकडाउन का कडाई से पालन कराया जा रहा है।उन्‍होंने कहा कि आवश्‍यक सामानों की उपलब्‍धता संतोषजनक है। उन्‍होंने बताया कि देशभरमें चल रहे राहत और भोजन शिविरों में लगभग 75 लाख लोगों को भोजन और आश्रय मुहैया करायाजा रहा है।    

राज्‍योंमें लगभग 28 हजार रिलीफ कैम्‍प्‍स और शेल्‍टर स्‍थापित किए गये हैं। उसमें 23 हजार924 सरकार द्वारा सेटअप किए गये हैं और तीन हजार 737 एनजीओ द्वारा सेटअप किए गये हैं।इन शेल्‍टर्स में कुल साढ़े 12 लाख लोगों को आश्रय मिला है। इसके अलावा 19 हजार460 फूड कैंम्‍प्‍स भी सेटअप किए गये हैं जिनमें नौ हजार 951 सरकारों द्वारा लगाए हैंऔर नौ हजार पांच सौ नौ एनजीओ द्वारा लगाए गये हैं। लगभग 75 लाख से ज्‍यादा से लोगोंका भोजन उपलब्‍ध कराया जा रहा है।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधानपरिषद के प्रमुख वैज्ञानिक डॉक्‍टर रमन खेरकर ने कहा कि परिषद ने रक्‍त की जांच केलिए पांच लाख किट का ऑर्डर दिया है। ढाई लाख किट इस महीने की आठ या दस तारीख तक मिलजाने की आशा है।

--------------

केंद्रीय मंत्रिमंडल नेसंसद सदस्‍य वेतन, भत्‍ते और पेंशन अधिनियम 1954 में संशोधन के लिए अध्‍यादेश को मंजूरीदे दी है। इसके तहत सांसदों का वेतन एक वर्ष के लिए 30 प्रतिशत कम हो जाएगा। यह अध्‍यादेशपहली अप्रैल से प्रभावी हो गया। मंत्रिमंडल के फैसलों के बारे में सूचना और प्रसारणमंत्री प्रकाश जावडेकर ने संवाददाताओं को बताया कि केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों कावेतन एक वर्ष के लिए 30 प्रतिशत घट जाएगा।

श्री जावड़ेकर ने बतायाकि मंत्रिमंडल ने 2020-21 से 2021-22 तक दो वर्ष के लिए सांसद क्षेत्रीय विकास निधिको निलंबित करने का फैसला किया है। उन्‍होंने कहा कि यह 79 अरब रुपये की राशि कोविड-19से निपटने के लिए भारत की समेकित निधि में जमा कराई जाएगी।

--------------

गुजरात सरकार ने कोविड-19महामारी को देखते हुए अपने सभी विधायकों और मंत्रियों के वेतन में एक वर्ष के लिए30 प्रतिशत की कटौती की है। मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी ने कल यह घोषणा की। उन्‍होंनेकहा कि विधायकों को मिले अनुदान का उपयोग भी जनहित में कोविड-19 से निपटने के लिए कियाजाएगा। मुख्‍यमंत्री ने बताया कि सांसदों के वेतन में दो वर्ष के लिए 30 प्रतिशत कटौतीके केन्‍द्र के फैसले को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। केन्‍द्र ने भी महामारीसे निपटने में सांसद निधि का उपयोग करने का निर्णय लिया है।

इस बीच, राज्‍य में स्‍थानीयस्‍तर पर आवश्‍यक स्‍वास्‍थ्‍य सामग्री का उत्‍पादन करके निजी कारखाने भी इस महामारीके विरुद्ध संघर्ष में शामिल हो गए हैं। राज्‍य में वेंटिलेटर के बाद व्‍यक्तिगत रक्षाउपकरण और एन-95 मास्‍क सस्‍ते दामों पर तैयार किए जा रहे हैं।  

सीएमके सचिव अश्विनी कुमार ने कहा कि अहमदाबाद के पास चांगोदर स्थित सिल्‍यू प्रोडक्‍टआय के कानपुर से प्रौद्योगिकी हस्‍तांतरण मिलने के बाद प्रतिदिन 25 हजार एन 95 मास्‍कका उत्‍पादन कर रही है। उन्‍होंने कहा गांधीनगर स्थित अरविंद मिल्‍स और बडोदरा स्थितइस्टियोर सेफ्टी मेडिकल और पैरा मेडिकल स्‍टॉफ के लिए किफायती दाम पर व्‍यक्तिगत उपकरणकिट उत्‍पादन कर रहे हैं। श्री कुमार ने कहा इससे न केवल राज्‍य में बल्कि पूरे देशमें स्‍वास्‍थ्‍य उपकरणों की आपूर्ति सुनिश्चित होगी। अपर्णा खुंट, आकाशवाणी समाचारअहमदबाद।

--------------

केरल ने एर्णाकुलम जिलेमें कोविड-19 परीक्षण के लिए बड़े पैमाने पर नमूने लेने के लिए वॉकइन सेंपल किओस्‍कस्‍थापित किये हैं। ये किओस्‍क दक्षिण कोरियाई मॉडल पर आधारित हैं।

यह कियोस्‍कचलता-फिरता ऐसा क्‍यूबिकल है जिसमें शीशे के साथ कवर के सामने की ओर दस्‍ताने लगायेगये हैं। किओस्‍क में मौजूद स्‍वास्‍थ्‍यकर्मी बाहर खड़े लोगों के थूक और लार, स्‍वैबइकट्ठा कर सकता है। स्‍वैब इकट्ठा करने के बाद दस्‍तानों को बाहर से ही सैनिटाइज कियाजा सकता है। इस व्‍यवस्‍था से पीपीई किट की आवश्‍यकता में बहुत कमी आ गयी है और चिकित्‍साकर्मीके अलावा रोगी को सुरक्षा प्रदान करने के साथ ही बड़े पैमाने पर नमूने इकट्ठे करनेमें आसानी हो गयी है। इस समय एर्नाकुलम मेडिकल कॉलेज में दो कियोस्‍क लगाये हैं। एर्नाकुलमजिला प्रशासन के अनुसार कोच्चि में स्‍थापित ये कियोस्‍क देश में अपनी तरह की अनूठीपहल है। इस बीच केरल में एक लाख 52 हजार से अधिक लोगों को विशेष निगरानी में रखा गयाहै। तिरुवनंतपुरम से मयूषा की रिपोर्ट के साथ मोहम्‍मद जुबैर।

--------------

शिमला से हमारे संवाददाता ने बतायाहै कि दिल्‍ली में तब्लीगी जमात में शामिल हुए लोग सामने आकर प्रशासन को अपने बारेमें जानकारी दे रहे हैं।

हाल हीमें दिल्‍ली निजामुद्दीन तब्लीगी जमात में शामिल हुए 12 लोगों ने राज्‍य सभा की अपीलके बाद स्‍वेच्‍छा से अपनी यात्रा का खुलासा किया है। इसके अतिरिक्‍त तब्‍लीगी जमातके संपर्क में आए 52 लोगों ने भी स्‍वेच्‍छा से अपनी पहचान का खुलासा किया। सभी 64व्‍यक्तियों को क्‍वारंटाइन किया गया है और उनका इलाज किया जा रहा है। अब तक राज्‍यमें 18 लोगों की पुष्टि की गई है जिनमें से 11 तब्‍लीगी जमात के सदस्‍य हैं। इस बीचएक्टिव केस फाइंडिंग कैंपेन के तहत स्‍वास्‍थ्‍यकर्ताओं द्वारा 23 लाख से अधिक व्‍यक्तियोंके स्‍वास्‍थ्‍य की जानकारी ए‍कत्रित की गई है। संजीव सुंद्रियाल, आकाशवाणी समाचार,शिमला।

--------------

मध्‍य प्रदेश के भोपालमें 29 संक्रमितों की पुष्टि के बाद राजधानी में कोविड-19 से प्रभावितों की संख्‍याबढ़कर 61 हो गई है। इंदौर में ये संख्‍या बढ़कर 151 हो गई है। इस समय राज्‍य में कोरोनावायरस से प्रभावितों की संख्‍या 250 से ज्‍यादा हो गई है। इस बीमारी से 14 लोगों कीमौत हो गई है और बारह लोग ठीक हुए हैं।

कोविड-19 वायरस से लड़नेके लिए बच्‍चे यौद्धा बन रहे हैं। वे लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ अपनी जमा राशिभी प्रशासन को सौंप रहे हैं।

--------------

जम्‍मू-कश्‍मीर प्रशासनलॉकडाउन के मद्देनजर लोगों की परेशानियों को कम करने के लिए सभी प्रयास कर रहा है।प्रशासन, दवाओं के अलावा आवश्‍यक सामग्री भी लोगों को उपलब्‍ध करा रहा है। 

--------------

तमिलनाडु में कोविड-19वैश्विक महामारी को रोकने के लिए वायरस जांच केन्‍द्र दोगुने से अधिक हो गए हैं। वर्तमानमें 11 सरकारी अस्‍पतालों सहित 17 जांच केन्‍द्र चल रहे हैं। 21 और स्‍थापित किए जारहे हैं। इसके अलावा, एक लाख जांच किट के आदेश दिए गए हैं।

इस बीच, कल कोविड-19 केपचास मामलों की पुष्टि के साथ राज्‍य में यह संख्‍या बढ़कर 621 हो गई है। वायरस संक्रमित67 वर्षीय नागरिक की कल चेन्‍नई में मौत हो गई। राज्‍य में मरने वालों की संख्‍या अबछह हो गई है।

--------------

उत्‍तर प्रदेश सरकार नेबीमार और बीमार व्‍यक्ति के सम्‍पर्क में आने वाले और धार्मिक स्‍थानों पर मौजूद लोगोंसे आगे आकर अपनी जांच कराने का अनुरोध किया है। सरकार ने फेसबुक, ट्वीटर और टिकटॉकजैसे सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म से भी कोरोना वायरस के फैलने से जुडे फर्जी समाचार औरआपत्तिजनक वीडियो हटाने की भी अपील की।

-------------

आकाशवाणी से विशेषज्ञोंकी राय श्रृंखला में हम आपको कोविड-19 पर वरिष्‍ठ चिकित्‍सा विशेषज्ञों के परामर्शसे अवगत कराते हैं। आकाशवाणी समाचार से बातचीत में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान-एम्‍सके डॉ. राकेश गर्ग ने कहा कि इस महामारी का फैलाव रोकने के लिए लोगों का सहयोग महत्‍वपूर्णहै।

कोविड-19जो हमारा फैल रहा है वो पॉजिटिव पेशेंट से दूसरे पॉजिटिव पेशेंट से जब हम कॉन्‍टैक्‍टमें रहते हैं, जब हम सोशल डिस्‍टेंसिंग नहीं कर रहे हैं, तो वहां पर चांसेज होने केज्‍यादा हैं। तो अगर हम इसको देखें कि‍ हमारे फ्यूचर में ये कैसे स्‍प्रेड होने वालाहै तो बिल्‍कुल उसपर डिपेंड करेगा कि हमारा लॉकडाउन कैसा रहता है, सोशल आइसोलेशन कैसारहता है इसकी जो पीक आएगा, जो एक नम्‍बर ऑफ सर्ज ऑफ केसेज़ आएगा वो एक फ्लैट हो सकताहै। नम्‍बर और केसेज़ बहुत कम हो जाएंगे अगर ये सारे जो हम प्रीकॉशन्‍स हैं इसको पूरीतरह से सभी लोग हम उसमें सहयोग करें।

जी.बी. पंत अस्‍पताल, दिल्‍लीके डॉ. संजय पांडेय ने बताया कि श्‍वासनली में संक्रमण, तथा सर्दी, खांसी कोरोना वायरसके प्रमुख लक्षण हैं।

80 से85 प्रतिशत जो मरीज होते हैं उनमें लक्षण बिल्‍कुल सामान्‍य होता है और वो रिकवर होजाते हैं। दस पर्सेंट ऐसे पेशेंट होते हैं, जिनको थोड़ी सांस की दिक्‍कत होती है बटऑक्‍सीजन और मामूली से सपोर्ट से उसमें काफी पेशेंट बाहर आ जाते हैं। पांच से दस पर्सेंटपेशेंट ऐसे हो सकते हैं, जिनमें सांस की दिक्‍कत ज्‍यादा हो सकती है और यह तकलीफ आमतौरपर उन मरीजों को होती है, जिनको पहले से कुछ हाइपरटेंशन है, डायबिटीज है, सांस की दिक्‍कतहै या उनकी ऐज ज्‍यादा है।

वरिष्‍ठ चिकित्‍सक डॉक्‍टर अवधेशशर्मा ने कोविड 19 के फैलाव और बचाव के बारे में बताया -

मान लीजिएघर के अन्‍दर ही कोई है और वो बीमार है और दूसरों को भी इसके बारे में अभी पता नहींहै कि वो बीमार है, क्‍योंकि चार पांच दिनों तक कोई लक्षण आते ही नहीं हैं। कुछ कारणपता नहीं लगता कि वो बीमार हैं तो जो उसके आसपास के घर में लोग हैं, बच्‍चे हैं, वृद्धलोग हैं वो जल्‍द इस बीमारी को पकड़ लेंगे। अगर वो बाहर जा रहा है, किसी भीड़ में जारहा है, तो वो एक से कई और लोगों को भी ये बीमारी दे देगा इस तरह से समाज में फैल सकतीहै।

डॉ. अवधेश ने इस संक्रमण से बचावके लिए केवल सुरक्षित दूरी को ही कारगर बताया है -

एक-दूसरेसे आप कम से कम दो मीटर दूर रहे। ये दो मीटर का जो फासला है उसका बड़ा कारण यह है किअगर कोई व्‍यक्ति छींकता या खांसता है तो उसके शरीर में वो कीटाणु है जो कि कोरोनाको फैलाते हैं। वो दूसरे व्‍यक्ति के ऊपर भी जाकर पड़ सकते हैं। खासकर उसके चेहरे पर।

--------------

रक्षा मंत्रालय के अधीनआयुध कारखाना बोर्ड, कोविड 19 महामारी की जाँच करने के लिए कम लागत वाले आइसोलेशन यूनिटके रूप में परिष्‍कृत तम्‍बू बनाने के लिए पूरी तरह तैयार है। ये तम्‍बू आयुध निर्माणीकानपुर में जुटाये जा रहे हैं और सैन्य उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले तम्‍बुओंकी तुलना में तीस प्रतिशत सस्ते हैं। इसका कपड़ा पॉली विस्कोस से बना है, जिसे हल्‍केस्‍टील और एल्यूमीनियम मिश्र धातु से जोड़कर बनाया गया है। चिकित्‍सीय जांच और आपातस्थिति के लिए भी इन तम्‍बुओं का उपयोग किया जा सकता है।

--------------

केंद्र ने कोविड-19 महामारीपर नियंत्रण और उसके प्रबंधन के लिए नेशनल पार्क वन्‍य जीव अभयारण्‍यों और बाघ संरक्षणअभयारण्‍यों के बारे में राज्‍यों और केंद्रशासित प्रदेशों को परामर्श जारी किया है।बाघों के कोविड-19 से संक्रमित होने की हाल की खबरों के मद्देनज़र पर्यावरण मंत्रालयने राज्‍यों और केंद्रशासित प्रदेशों को पत्र लिखा है। उन्‍हें मानव से पशुओं में औरपशुओं से मानव में वायरस फैलने से रोकने के तुरंत उपाय करने को कहा गया है। पशुओं सेमनुष्‍यों के सम्‍पर्क को सीमित करने और वन्‍य जीव अभयारण्‍यों, बाघ संरक्षण अभयारण्‍योंऔर नेशनल पार्क में लोगों की आवाजाही को प्रतिबंधित करने को कहा गया है। मंत्रालय नेइस संबंध में कार्यबल या द्रुत कार्रवाई बल गठित करने का भी सुझाव दिया है, ताकि किसीभी स्थिति का तुरंत प्रबंधन किया जा सके।

सरकार ने सभी राज्‍योंऔर केन्‍द्र शासित प्रदेशों से कहा है कि वे एक नोडल अधिकारी के नेतृत्‍व में चौबीसघंटे जानकारी देने वाला तंत्र तैयार करें, जो किसी भी मामले की जानकारी मिलते ही तत्‍कालआवश्‍यक कार्रवाई कर सके।

--------------

बिहार सरकार ने लॉकडाउनके दौरान देश के कई भागों में फंसे एक लाख से अधिक प्रवासी कामगारों के खाते में एक-एकहजार रुपये अंतरित किए हैं। मुख्‍यमंत्री नीतिश कुमार ने कहा है कि प्रत्‍यक्ष लाभअंतरण प्रणाली से प्रत्‍येक प्रवासी कामगार के खाते में रुपये जमा कराए गए हैं। उन्‍होंनेकहा कि बिहार अपने प्रवासी कामगारों तक मदद पहुंचाने वाला देश का पहला राज्‍य बन गयाहै। एक रिपोर्ट अब तक दो लाख चौरासी हजार से अधिक प्रवासी मजदूरों ने सहायताके लिए ऐप के जरिए आवेदन दिए हैं। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि जो लोग जहांहै वहीं उन्‍हें सहायता मिलेगी। इस बीच लगातर दूसरे दिन बिहार में कोरोना वायरस सेसंक्रमित कोई मरीज नहीं मिला। पहली बार एकसाथ पांच कोरोना मरीज स्‍वस्‍थ होकर घर लौटे।इसके साथ ही अब तक नौ मरीजों ने कोरोना के जिंदगी की जंग जीत ली है। आकाशवाणी समाचारके लिए पटना से कृष्‍ण कुमार लाल।

--------------

राष्‍ट्रीय कैडेट कौर-एन.सी.सी.वैश्विक महामारी कोविड-19 के विरूद्ध संघर्ष में देश के विभिन्‍न भागों में लोगों कीमदद कर रहा है। हमारे संवाददाता ने बताया कि एनसीसी कैडेट विभिन्‍न राज्‍यों में राहतसामग्री वितरण, सामुदायिक सहायता, डाटा प्रबंधन और यातायात व्‍यवस्‍था में अपना योगदानदे रहे हैं।

पिछलेसप्ताह, सरकार ने ''एक्सरसाइज एनसीसी योगदान'' के तहत एनसीसी कैडेटों के अस्थायी नियुक्तिकी मंजूरी दे दी है। एनसीसी कैडेटों को हेल्पलाइन में सहायता, राहत सामग्री तथा दवाइयांतथा आवश्‍यक वस्‍तुओं के वितरण साथ-साथ परिवहन प्रबंधन जैसे कार्य सौंपे गये हैं।75 कैडेट तमिलनाडु और 57 कैडेट पुडुचेरी में सेवाएं दे रहे हैं। इसके अलावा, 80 कैडेटपूर्वी खासी हिल्स राशन वितरण कार्य में मेघालय पुलिस की मदद कर रहे हैं, जबकि 64 कैडेट्समध्‍य प्रदेश के नीमच जिला में आपूर्ति श्रृंखला एवं परिवहन प्रबंधन में अपना योगदानदे रहे हैं। वहीं लद्दाख ने भी आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन के लिए आठ कैडेटों की मांगरखी है। आनंद कुमार, आकाशवाणी समाचार, दिल्‍ली।

--------------

आकाशवाणी का समाचार सेवाप्रभाग आज अपने फोन इन कार्यक्रम में कोविड-19 पर विशेष परिचर्चा प्रसारितकरेगा।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधानपरिषद में महामारी और संचारी रोग विज्ञान प्रमुख डॉ. रमन आर गंगाखेरकर परिचर्चा मेंशामिल होंगे।

विशेषज्ञों से टेलीफोननम्‍बर 1800-115767 पर सवाल पूछे जा सकते हैं। नम्‍बर एक बार फिर सुन लें -1800-115767. श्रोता 011-23314444 पर भी सवाल पूछ सकते हैं। ट्वि‍टर हैंडल @airnews s पर #tag Askair के जरिएभी सवाल पोस्‍ट किए जा सकते हैं।

विशेष फोन इन कार्यक्रम एफएम गोल्‍ड और अतिरिक्‍त मीटरों पर रात नौ बजकर 10 मिनटसे सुना जा सकता है। यह हमारी वेबसाइट न्‍यूज ऑन एआईआर डॉट कॉम और यू-ट्यूबचैनल न्‍यूज ऑन एआईआर ऑफिशियल पर भी उपलब्‍ध रहेगा। न्‍यूज ऑन एआईआर ऐप से भीजानकारी ली जा सकती है।

--------------

कोरोना वायरस संक्रमणग्रस्‍तब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉन्‍सन को हालत बिगड़ने के बाद गहन चिकित्‍सा कक्ष-आईसीयूमें भेज दिया गया है। ब्रिटेन सरकार के प्रवक्‍ता ने बताया कि प्रधानमंत्री का उपचारकर रहे चिकित्‍सा दल की सलाह पर कल उन्‍हें आईसीयू में भेजा गया। श्री जॉन्‍सन लंदनके सेंट थॉमस अस्‍पताल में भर्ती हैं।

ब्रिटेन के विदेश मंत्रीडोमिनिक राब प्रधानमंत्री का अस्‍थायी प्रभार संभाल रहे हैं। श्री राब ने कहा कि सरकारकोविड-19 महामारी से निपटने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्‍होंने कहा कि सरकार की टीम-भावनासे प्रधानमंत्री की पूर्व निर्धारित  योजनाएंजल्‍द से जल्‍द लागू की जाएंगी।       

--------------

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्रमोदी ने कोरोना वायरस के इलाज के लिए अस्‍पताल में भर्ती ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिसजॉनसन के जल्‍द ही स्‍वस्‍थ होने की कामना की है। एक ट्वीट में श्री मोदी ने कहा कि वे श्री जॉनसन को स्‍वस्‍थ देखना चाहते हैं।

--------------

सरकार ने एक बड़े अखबारमें छपे संपादकीय को आधारहीन बताया है जिसमें यह कहा गया था कि आरोग्‍य सेतु ऐप काइस्‍तेमाल निगरानी के लिए किया जायेगा। सरकार ने कहा है कि यह मोबाइल किसी भी संवेदनशीलव्यक्तिगत आंकड़े को उपयोगकर्ता के स्थान और उसके डेटाके साथ नहीं जोड़ता है। साथ ही इससे किसी तरह की हैकिंग का खतरा भी नहीं है।

यह मोबाइल ऐप देश के लोगोंको कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में एकजुट करने के संकल्‍प के साथ कुछ दिन पहले शुरू कियागया था। इस ऐप के प्रयोग से लोग कोरोना वायरस संक्रमण से प्रभावित होने के खतरे केलिए अपना आकलन कर सकते हैं।

इस ऐप के प्रयोग से सरकारको कोविड-19 संक्रमण के खतरे का मूल्‍यांकन करने और जहां जरूरत हो वहां आइसोलेशन करनेके लिए समय पर आवश्‍यक कदम उठाने में सहायता भी मिलती है।

--------------

समाचारपत्रों की सुर्खियों से-

अगर आज के समाचार पत्रोंपर नज़र डालतें तो कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए 30 फीसद कम वेतन लेंगे प्रधानमंत्री,सांसद - जनसत्‍ता सहित अधिकांश अखबारों की ख़बर है। हिन्‍दुस्‍तान लिखताहै - राष्‍ट्रपति, उपराष्‍ट्रपति और राज्‍यपाल भी कम वेतन लेंगे। रकम कोरोना राहत कोषमें जाएगी।

धीरे-धीरे खुलेगा ताला- नवभारत टाइम्‍स का कहना है। महामारी के हॉट स्‍पॉट क्षेत्रों में 28 दिन बढ़सकता है लॉकडाउन, दूसरे राज्‍यों में सफर तुरंत नहीं। दैनिक जागरण ने लिखा है- एकसाथ नहीं हटेगा लॉकडाउन, कोराना वायरस के संक्रमण के मामलों के आधार पर चार श्रेणियोंमें बटेंगे राज्‍य। अमर उजाला की सुर्खी है - उत्‍तर प्रदेश में एक भी केस रहनेतक नहीं हटेगा लॉकडाउन। पंजाब केसरी के अनुसार - तेलंगाना चाहता है तीन जूनतक बढ़े लॉकडाउन।

हिन्‍दुस्‍तानने राहत शीर्षक से लिखा है - स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय का दावा,कोरोना का सामुदायिक प्रसार अभी नहीं। दैनिक जागरण ने बताया है - स्‍टेज तीनसे बचे रहने के लिए हो रही है तमाम कोशिश।

हिन्‍दुस्‍तानने जीवन बीमा परिषद के इस भरोसे को प्रकाशित किया है - कंपनियांमहामारी से मौत पर बीमा दावे को नहीं रोक सकतीं।

नवभारतटाइम्‍स की सुर्खी है - अमरीका में इंसान के संपर्क में आई बाघिन औरहो गई कोरोना पॉजिटिव। जनसत्‍ता ने लिखा है - अमरीका के संक्रमण से भारत मेंभी बढ़ी चिंता। देश के सभी चिडि़याघरों से हाई अलर्ट पर रहने और संदिग्‍ध मामलों मेंनमूने लेने के लिए कहा गया है।

उम्र 81, डायबीटीज, हाइपरटेंशन,पांच स्‍टेंट, फिर भी हरा दी बीमारी। नवभारत टाइम्‍स ने बताया है - पंजाब केमोहाली की कुलवंत निर्मल कौर ने हौसला नहीं खोया और कोरोना को हराकर अस्‍पताल से घरलौट आईं।

दैनिकजागरण ने उम्‍मीद शीर्षक से लिखा है - लॉकडाउन के कारण औद्योगिक इकाइयांबंद होने से दिल्‍ली की मृतप्राय यमुना के साफ पानी ने दिखाई भविष्‍य की सुखद राह।

--------------


Live Twitter Feed

Listen News

Morning News 2 (Jun) Midday News 2 (Jun) Evening News 2 (Jun) Hourly 3 (Jun) (0605hrs)
समाचार प्रभात 2 (Jun) दोपहर समाचार 2 (Jun) समाचार संध्या 2 (Jun) प्रति घंटा समाचार 3 (Jun) (0600hrs)
Khabarnama (Mor) 2 (Jun) Khabrein(Day) 2 (Jun) Khabrein(Eve) 2 (Jun)
Aaj Savere 3 (Jun) Parikrama 2 (Jun)

Listen Programs

Market Mantra 2 (Jun) Samayki 2 (Jun) Sports Scan 23 (Mar) Spotlight/News Analysis 2 (Jun) Samachar Darshan 22 (Mar) Radio Newsreel 21 (Mar)
    Public Speak

    Country wide 12 (Mar) Surkhiyon Mein 2 (Jun) Charcha Ka Vishai Ha 11 (Mar) Vaad-Samvaad 17 (Mar) Money Talk 17 (Mar) Current Affairs 6 (Mar)
  • Money Matters 22 (Mar)
  • International News 22 (Mar)
  • Press Review 23 (Mar)
  • From the States 23 (Mar)
  • Let's Connect 22 (Mar)
  • 360°- Ek Parivesh 23 (Mar)
  • Know Your Constitution 30 (Jan)
  • Ek Bharat Shreshta Bharat 22 (Mar)
  • Sanskriti Darshan 23 (Mar)
  • Fit India New India 23 (Mar)
  • Weather Report 21 (Mar)
  • North East Diaries 22 (Mar)
  • 150 Years of Bapu 22 (Mar)
  • Sector Specific Discussions 22 (Mar)