मुख्य समाचार
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों का जीवन बचाने और देश की अर्थव्‍यवस्‍था में स्थिरता लाने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता दोहराई            प्रधानमंत्री का वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला में भारत की हिस्‍सेदारी बढाने के लिए मजबूत स्‍थानीय आपूति श्रृंखला विकसित करने का आहवान            कोविड-19 से स्‍वस्थ होने की दर बढकर 48 प्रतिशत से अधिक हुई            फ्रांस ने कोविड-19 महामारी से उत्पन्न चुनौतियों के बावजूद भारत को राफाल विमानों की समय से आपूर्ति कराने की प्रतिबद्धता दोहराई।            चक्रवाती तूफान निसर्ग के लिए एनडीआरएफ की टीमें गुजरात और महाराष्ट्र में तैनात। प्रधानमंत्री ने हरसंभव सहायता का आश्वाासन दिया।           

Text Bulletins Details


दोपहर समाचार

1415 HRS
08.04.2020

मुख्‍य समाचार

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 की स्थिति से निपटने के बारे में विभिन्‍न राजनीतिक दलों के नेताओं से वीडियो कांफ्रेंस के जरिये बातचीत की।

  • गृह मंत्रालय ने राज्‍यों को उचित मूल्‍य पर आवश्‍यक वस्‍तुओं की उपलब्‍धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

  • स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कहा--देश में अब तक कोविड-19 से संक्रमित 402 मरीज ठीक हुए। पिछले 24 घंटे में 773 नये मरीजों की पुष्टि।

  • सरकार ने कोविड-19 की रोकथाम के लिए त्रिस्‍तरीय स्‍वास्‍थ्‍य सुविधा का प्रबंधन किया।

  • नोवल कोरोना वायरस से निपटने में कई एजेंसियां और संगठन सहायता के लिए आगे आए।

  • और, संयुक्‍त राष्‍ट्र ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर शांति सैनिकों की तैनाती 30 जून तक रोकी।

-----

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा और राज्यसभा में विभिन्न दलों के नेताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के ज़रिये सर्वदलीय बैठक की है। इसमें प्रधानमंत्री ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में एहतियात के तौर पर इस महीने की चौदह तारीख के बाद भी पूर्णबंदी बढ़ाने की अनेक राज्यों की मांग को देखते हुए भविष्य में उठाये जाने वाले कदमों की चर्चा की। हमारे संवाददाता ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि पूर्णबंदी से अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव और इससे उबरने के उपायों पर विचार-विमर्श हुआ। बैठक में राज्यों को जारी की गयी धनराशि के इस्तेमाल और प्रवासी मज़दूरों से संबंधित चिंताओं पर भी विस्तार से चर्चा की गयी। अनेक नेताओं ने सरकार से पूर्णबंदी और बढ़ाने को कहा है। कुछ नेताओं ने कोविड-19 के मरीज़ों के लिए निशुल्क या किफायती जांच सुविधा सुनिश्चित करने के लिए उचित प्रावधान करने का अनुरोध किया है। विपक्षी नेताओं ने केंद्र की ओर से राज्यों को दी जाने वाली आर्थिक मदद बढ़ाने की भी मांग की।


कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद, शिवसेना नेता संजय राउत, डीएमके नेता टी.आर. बालू, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के शरद पवार, जनता दल यूनाइटेड के राजीव रंजन सिंह, लोक जनशक्ति पार्टी के चिराग पासवान, समाजवादी पार्टी के रामगोपाल यादव और बहुजन समाज पार्टी के सतीश चंद्र मिश्र प्रधानमंत्री के साथ बैठक में हिस्सा लेने वाले नेताओं में शामिल थे।


-----

गृह मंत्रालय ने राज्‍यों को निर्देश दिया है कि वे उचित मूल्‍य पर आवश्‍यक वस्‍त‍ुओं की उपलब्‍धता सुनिश्चित करें। गृह सचिव अजय भल्‍ला ने राज्‍यों के मुख्‍य सचिवों को पत्र लिखकर कहा है कि वे जमाखोरी, काला बाजारी और मुनाफाखोरी करने वालों पर कड़ी कार्रवाई करें। गृह सचिव ने राज्‍यों से कहा है कि वे आवश्‍यक वस्‍तु अधिनियम 1955 के जरिये खाद्यान, दवा और चिकित्‍सा उपकरणों की आपूर्ति सुनिश्चित करें। श्री भल्‍ला ने राज्‍यों से यह भी कहा है कि वे भंडारण तथा कीमतों की सीमा तय करने, उत्‍पादन बढ़ाने, व्‍यापारियों के खातों की जांच करने जैसे उपायों से आवश्‍यक वस्‍तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करें। उन्‍होंने कहा कि सरकार के निर्देशों का पालन न करने वाले व्‍यापारियों पर कड़ी कार्रवाई की जा सकती है। उन्‍हें आवश्‍यक वस्‍तु अधिनियम के तहत सात साल की सज़ा दी सकती है।


-----

गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह ने जमाखोरी और कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ तुरंत कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। उन्‍होंने कहा कि आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति की मौजूदा स्थिति कुल मिलाकर संतोषजनक है।


इसेंशियल गुड्स और सर्विसेज का स्‍टे्टस बाय एण्‍ड लार्ज सैटिस्‍फैक्‍टरी है। गृहमंत्रीजी ने इसेंशियल कमोडिटीज और लॉकडाउन मैजर्स के स्‍टेटस का डिटेल्ड रिव्‍यू किया। उन्‍होंने निर्देश दिया है कि उपयुक्‍त कदम उठाए जाएं और राज्‍य सरकारों के साथ मिलकर सुनिश्चित किया जाए कि कहीं भी होर्डिंग और ब्‍लैक मार्केटिंग न हो। ऐसा करने वालों के विरुद्ध सख्‍ती से और त्‍वरित गति से कार्रवाई हो। अन्‍य इसेंशियल कमोडिटीज के साथ गवर्नमेंट फार्मास्‍यूटिकल्‍स के मूवमेंट को भी क्‍लोजली मॉनि‍टर कर रही है।


-----

केन्द्र सरकार ने कहा है कि भारतीय खाद्य निगम-एफ०सी०आई० ने प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण अन्‍न योजना के जरिये पर्याप्‍त अनाज उपलब्‍ध कराया है। इस योजना में प्रति व्‍यक्ति पांच किलोग्राम अनाज प्रत्‍येक माह निशुल्‍क दिया जाएगा। यह अनाज, राष्‍ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के लाभार्थियों को अगले तीन महीने तक दिया जाएगा।  


-----

केन्‍द्र सरकार ने पूर्णबंदी के दौरान मेडिकल उपकरणों की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाये हैं। हमारे संवाददाता ने बताया है कि रेलवे व्‍यक्तिगत प्रतिरक्षण उपकरण के उत्‍पादन के लिए युद्धस्‍तर पर काम कर रहा है।


रेलवे की विभिन्‍न वर्कशॉपों ने प्रत्‍येक दिन एक हजार पी पी ई का उत्‍पादन करने की तैयारी कर ली है। रेलवे डॉक्‍टर्स और पैरा-मेडिक्‍स के लिए तैयार किए जाने वाले इन पी पी ई  के उत्‍पादन में भविष्‍य में और तेजी लाई जाएगी। रेलवे देश के अन्‍य चिकित्‍सा पेशेवरों को भी 50 प्रतिशत पीपीई सामग्री की आपूर्ति करने पर विचार कर रहा है। रेलवे की जगादरी कार्यशाला द्वारा निर्मित पी पी ई  को हाल ही रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन की प्रयोगशाला ने मंजूरी दी है। स्‍वीकृत डिजाइन और सामग्री का उपयोग अब विभिन्‍न क्षेत्रों में स्थित 17 रेलवे कार्यशालाओं द्वारा पीपीई बनाने के लिए किया जाएगा। यह पी पी ई उन रेलवे के डॉक्‍टर्स और पैरा-मेडिक्‍स को आवश्‍यक सुरक्षा प्रदान करेगा जो कि कोरोना रोगियों के इलाज में जुटे हुए हैं। सुर्पणा सेकिया के साथ भूपेन्‍द्र सिंह आकाशवाणी समाचार, दिल्‍ली।


-----

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कहा है कि कोविड-19 के मरीज़ों के इलाज के लिए स्वास्थ्य सुविधाओं और अस्पतालों का वर्गीकरण किया गया है। कल यह जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि कोविड-19 के मरीज़ों की देखभाल के लिए एक तंत्र उपलब्ध कराने के तौर पर इस बीमारी की विभिन्न श्रेणियों के लिए तीन प्रकार की स्वास्थ्य देखरेख सुविधाओं की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि ये तीन प्रकार हैं-कोविड देखभाल केंद्र, कोविड स्वास्थ्य केंद्र और कोविड अस्पताल। इनमें सिर्फ कोविड-19 के मरीज़ों की देखभाल और इलाज होगा।


एक कोविड केयर हॉस्पिटल और कोविड हेल्‍थ केयर सेंटर से मैप हो, ताकि यहां पर जो पेसेंट रखे जाएं। जैसे मैंने कहा जो माइल्‍ड हैं या सस्‍पेक्‍ट केसेज हैं। अगर नीड हो तो उनको किस पर्टिकुलर हॉस्पिटल में फरदर केस के लिए लिया जाना है। वह क्‍लैरिटी वहां पर फीड पर हो। सेकेण्‍ड टाइप ऑफ सेंटर आर डेडिकेटेड कोविड हेल्‍थ, सेंटर दे आर केयर सेंटर, दिज आर हेल्‍थ सेंटर्स और इन सेंटर्स में उस टाइप के पेसेंट जोकि क्‍लीकली मॉडरिड लेबल ऑफ सीरियसनेस उनको मॉनिटर किया जायेगा। जिसकी प्रोपर ट्रायाजिंग सेपरेट एंट्री एग्जिट या जोनिंग हो ताकि किसी भी तरह के इंफैक्‍शन्‍स स्‍प्रेड का खतरा न हो और इन सब हॉस्पिटल्‍स में बेड्स अश्‍योर्ड ऑक्‍सीजन स्‍पोड के साथ होने चाहिए। तीसरा टाइप ऑफ क्‍लासीफिकेंशन इज डेडीकेटेड कोविड हॉस्पिटल्‍स जोकि हमारे सीवियर और क्रिटीकल केसेज हैं। ये हॉस्पिटल भी या तो फुल हॉस्पिटल हों या डेडीकेटेड ब्‍लॉक्‍स हों।


एक विज्ञप्ति में मंत्रालय ने कहा है कि इन तीन तरह के केंद्रों में संदिग्ध और पुष्ट किये गये मामलों के लिए अलग-अलग स्थान निर्धारित किए जाएंगे। मंत्रालय ने कहा है कि संदिग्ध और पुष्ट मामलों को किसी भी हालत में एक साथ रखने की अनुमति नहीं होगी। उन्होंने कहा कि सभी संदिग्ध मामलों की कोविड-19 के लिए जांच की जाएगी, चाहे इनमें बीमारी का स्तर कुछ भी हो।


भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के हाल के अध्ययन का उल्लेख करते हुए श्री अग्रवाल ने कहा कि अगर कोविड-19 का एक भी मरीज़ पूर्णबंदी का पालन नहीं करता है और सुरक्षित दूरी नहीं बनाये रखता है को वह तीस दिन में 406 लोगों को संक्रमित कर सकता है। स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि सुरक्षित दूरी बनाए रखना कोविड-19 से निपटने का कारगर वैक्सीन है। उन्होंने लोगों से अपील की वे कोरोना वायरस से निपटने के लिए सुरक्षित दूरी बनाए रखें।


-----

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि देश में अब तक कोविड-19 से संक्रमित चार सौ दो मरीज़ ठीक हो चुके हैं। पिछले चौबीस घंटों के दौरान 773 नये मरीजों की पुष्टि होने के बाद इनकी कुल संख्या पांच हज़ार एक सौ चौरानवे हो गयी है। इस वायरस से 149 लोगों की मृत्यु हुई है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद ने बताया है कि अब तक एक लाख चौदह हज़ार पंद्रह नमूनों की जांच की जा चुकी है। इनमें कल जांच किये गये बारह हज़ार पांच सौ चौरासी नमूने भी शामिल हैं। अनुसंधान परिषद ने सरकार की 136 प्रयोगशालाओं और नमूने इकट्ठे करने वाले तीन केंद्रों को कोविड-19 की जांच करने की स्वीकृति दे दी है। इसके अलावा 63 प्राइवेट प्रयोगशालाओं को भी कोविड-19 की जांच की अनुमति दी गयी है।


हमारे संवाददाता ने ख़बर दी है कि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद ने अनुसंधान की प्राथमिकता तय करने और शोध अध्ययन तुरंत शुरू करने के लिए पांच अनुसंधान समूह बनाए हैं।


-----

महाराष्‍ट्र में आज कोविड-19 के साठ मामलों की पुष्टि के बाद राज्‍य में संक्रमितों की संख्‍या एक हजार 78 हो गई है। सबसे अधिक मामले मुम्‍बई में हैं और पुणे में नौ व्‍यक्तियों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। इस बीच, पुणे में तीन मरीजों की मौत के साथ ही शहर में मृतकों की संख्‍या 13 हो गई है। इस समय झोपडपट्टी धारावी में कल दो मामले सामने आए।


-----

झारखण्‍ड में कोविड-19 के चार मामलों की पुष्टि हुई है और 160 नमूनों की जांच रिपोर्ट का इंतजार है। रांची से दो और हजारीबाग और बोकारो से एक-एक मामलों की पुष्टि हुई है। स्‍वास्‍थ्‍य विभाग संक्रमितों की पहचान के लिए अधिक से अधिक जांच करवा रहा है।


-----

आंध्रप्रदेश में कोविड-19 संक्रमितों की संख्‍या बढकर 329 हो गई है। कुरनूल जिले में सर्वाधिक 74, श्रीपोट्टी, श्रीरामालू, नेल्‍लौर में 49 मामले सामने आए हैं।


-----

ओडिशा सरकार कोविड-19 के फैलाव को रोकने के लिए युद्धस्‍तर पर काम कर रही है। सरकार ने पंचायतों को इस वायरस से लडने के लिए विशेष केन्‍द्र बनाने के निर्देश दिये हैं। हमारी संवाददाता ने बताया है कि सरकार ने प्रत्‍येक प‍ंचायत को क्‍वारंटीन सुविधा बढाने के लिए पांच-पांच लाख रूपये दिये हैं।


-----

जम्‍मू-कश्‍मीर में पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कल जम्‍मू में वरिष्‍ठ अधिकारियों के साथ बैठक में कोरोना संक्रमण से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की। उन्‍होंने कहा कि अब तक स्थिति को अच्‍छी तरह संभाला गया है, लेकिन महामारी के संवेदनशील स्‍तर को देखते हुए और अधिक सतर्कता बरता जरूरी है।


-----

मध्‍यप्रदेश में संक्रमितों की संख्‍या बढकर 320 हो गई है। इन्‍दौर में 22, खरगोन में 8 मामलों की पुष्टि हुई है। इस वायरस से राज्‍य में 25 लोगों की मौत हो गई है। भोपाल और इन्‍दौर सर्वाधिक प्रभावित जिले हैं।


इस बीच, राज्‍य के कई सांसदों ने वेतन में तीस प्रतिशत की कटौती के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसले का स्‍वागत किया है।


खरगोन के सांसद गजेंद्र पटेल ने इस फैसले को मील का पत्थर फैसला करार दिया है।


हमारे सांसद निधि दो वर्ष की दस करोड़ रुपये और हमारा वेतन जो 30 प्रतिशत की कटौती की है। मैं सभी हमारे जितने भी सांसद भाई हैं।उनके और मेरी ओर से माननीय प्रधानमंत्री जी के इस फैसले का हार्दिक स्‍वागत करता हूं। 


वहीं खंडवा के सांसद नंद कुमार सिंह चौहान ने भी इसे समयान रूप फैसला बताया है।


उनके इस निर्णय का मैं स्‍वागत करता हूं और समर्थन करता हूं। यहां सांसद निधि की धनराशि अब कोरोना जैसे महामारी से लड़ने के ऊपर खर्च होंगी।


राज्यपाल लालजी टंडन और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इस  फैसले का स्वागत किया है और स्वेच्छा से अपने वेतन में कटौती की घोषणा की है। राज्यपाल ने कोरोना संकट की अवधि के अंत तक हर महीने अपने वेतन का 30 प्रतिशत यानि करीब एक लाख रुपये प्रधान मंत्री कोष में देने की घोषणा की है। जबकि, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी एक वर्ष तक अपने वेतन का 30 प्रतिशत अंशदान राहत कोष में देने का निर्णय लिया है। वहीं अपनी विधायक निधि की राशि को भी कोरोना संक्रमण से निपटने में खर्च करेंगे।-संजीव शर्मा,आकाशवाणी समाचार,भोपाल।


-----

सीमा सुरक्षा बल-बीएसएफ कोविड-19 से अग्रिम पंक्ति में लडाई लड रहा है। जब बीएसएफ के जवान पाकिस्‍तान और बंगलादेश की सीमा पर गश्‍त लगाते हैं तो वे कोविड-19 से संबंधित जानकारी देते हैं। हालांकि उनके कामकाज में कोई रूकावट नहीं आई है। सीमा पर की निगरानी बढा दी गई है। लॉकडाउन के दौरान पूर्वी और पश्चिमी सीमा से कुछ आपत्तिजनक वस्‍तुएं जब्‍त की गई हैं। इस दौरान बीएसएफ के जवान लोगों को जागरूक करने के साथ साथ जरूरतमंदों को मास्‍क, साबुन और खाद्यान उपलब्‍ध करा रहे हैं।


-----

देशभर में कोविड-19 की रोकथाम के लिए दो सप्‍ताह से अधिक समय के लॉकडाउन के दौरान सीमावर्ती राज्‍य अरूणाचलप्रदेश में भी लॉकडाउन निर्बाध रूप से जारी है। राज्‍य सरकार पूरे राज्‍य में आवश्‍यक सामग्री की उपल्‍बधता सुनिश्चित करा रही है। सुदूरवर्ती क्षेत्रों में हैलीकॉप्‍टर से आवश्‍यक सामग्री भेजी जा रही है। राजधानी ईटानगर में विभिन्‍न एजेंसियों के माध्‍यम से घर-घर आवश्‍यक सामग्री का वितरण किया जा रहा है। इस बीच, ईटानगर में कोविड-19 से लडने के लिए इस महीने की 14 तारीख तक कर्फ्यू लगाया गया है।


-----

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन वीरेन सिंह ने राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान बाहर फंसे मणिपुर के लोगों को दो-दो हजार रुपए देने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री सचिवालय ने यह सहायता राशि संबंधित व्यक्ति के बैंक खाते में अंतरित करने का फैसला किया है। सरकार ने लॉकडाउन अवधि में बाहर फंसे लोगों को सचिवालय या कोविड 19 के लिए विशेष रूप से गठित वेबसाइट www.tengbang.in पर संपर्क करने को कहा है। मुख्यमंत्री ने कल एक ट्वीट में कहा कि दो-दो हजार रुपए की वित्तीय सहायता मुख्यमंत्री राहत कोष से उपलब्ध कराई जाएगी।


-----

कोविड-19 महामारी को देखते हुए हिमाचल प्रदेश सरकार ने स्वास्थ्य केंद्रों पर टेलीमिडिसिन परामर्श सुविधा शुरू की है। इससे लोगों को विशेषज्ञों से चिकित्सा संबंधी परामर्श दूर से भी मिल सकेगा। राज्य सरकार ने सोलन ज़िले के बद्दी इलाके में ई.एस.आई. अस्पताल को कोविड-19 के मरीज़ों के लिए चिन्हित किया है। सोलन और सिरमौर ज़िले के रोगियों का यहां इलाज होगा।


-----

केरल में स्‍थानीय प्रशासन और स्‍व: सहायता समूह लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों की दिनचर्या में बेहतर सुधार के लिए कई कदम उठा रहे हैं। हमारे संवाददाता ने बताया है कि कन्‍नूर थाली योजना के अंतर्गत जिला प्रशासन ने एक हजार चार सौ से अधिक प्रवासी मजदूरों और विस्‍थापितों के लिए भोजन की व्‍यवस्‍था की है।


-----

तमिलनाडु में नागरिक संगठनों ने चेन्‍नई में मोबाइल प्रोविजन स्‍टोर की शुरूआत की है और प्रशासन मोबाइल, सब्‍जी और फल की दुकानें खोलने की योजना बना रहा है। इसका उद्देश्‍य कर्फ्यू के दौरान लोगों को आसानी से सामान उपलब्‍ध कराना है।


-----

र्नाटक में, प्राथमिक और माध्‍यमिक शिक्षा विभाग लॉकडाउन के दौरान बच्‍चों में पढ़ाई और रचनात्‍मक गतिविधियों के प्रति रूचि पैदा करने के लिए एक यू ट्यूब चैनल शुरू कर रहा है। हमारे संवाददाता ने बताया है कि लॉकडाउन के दौरान बच्‍चों में टेलीविजन, मोबाइल फोन और वीडियो गेम्‍स के प्रति अत्‍यधिक आकर्षण को देखते हुए यह अनूठी पहल की गई है।


प्राथमिक शिक्षा विभाग हर दिन एक घंटे के लिए चार से पांच वीडियो यू ट्यूब में डालने की योजना 50 दिन के लिए बनाना चाहता है। कुछ स्‍लेबस से हटकर भी वीडियो बनाए जा सकते हैं  तथा वाचन अच्‍छी किताब पढ़ना, पहेली मैजिक और ऑरिगेमी- पेपर से डिजाइन बनाने जैसे दिलचस्‍प विषयों पर आधारित वीडियो सुझाव दिए गये हैं। कन्‍नड़ भाषा में इसके बनाने से ज्‍यादा पसंद आएंगे। इन वीडियोज के लिए विभाग ज्‍यादा पैसा तो नहीं दे रहा है। मगर वीडियो बनाने वाले के नाम की घोषणा करने का वादा उसने किया है। सुधीन्‍द्रा आकाशवाणी समाचार बेंगलुरू।


-----

असम में राज्‍य मंत्रिमण्‍डल ने मुख्‍यमंत्री, मंत्रियों और सभी विधायकों के मासिक वेतन में एक वर्ष के लिए तीस प्रतिशत की कटौती करने का निर्णय लिया है। यह धनराशि कोविड-19 मरीजों के इलाज और बीमारी की रोकथाम प्रबंधन के लिए जमा की जाएगी। पूर्णबंदी के बाद की स्थिति के संबंध में मंत्रिमण्‍डल ने केन्‍द्र के दिशा-निर्देश के अनुपालन का निर्णय लिया है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हि‍मन्‍त बिस्‍व सरमा ने कल मंत्रिमण्‍डल बैठक के बाद संवाददाताओं से यह बात कही। उन्‍होंने कहा कि केन्‍द्र सरकार के निर्देशों का उपायुक्‍तों द्वारा सीधा अनुपालन किया जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि उचित दूरी बनाए रखने के मापदण्‍ड को हर स्‍तर पर माना जा रहा है। हमारे संवाददाता ने बताया कि अभी तक राज्‍य में 28 रोगियों की पुष्टि हुई है।


असम में निगरानी और स्‍क्रीनिंग में कोई कमी नही आई है। असम में अब तक 28 पॉजिटिव मामले सामने आये हैं। हालांकि सभी के स्‍वास्‍थ ठीक है।  मुख्‍यमंत्री सोनोवाल ने नागरिकों से कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई का हिस्‍सा बनने का अपील किया है। एक संदेश में मुख्‍यमंत्री ने लोगों से डॉक्‍टरों, नर्सो, पैरामेडिक, सेनिटेरी कर्मचारियों आदि विभिन्‍न क्षेत्र में स्‍वास्‍थ्‍य सेवा के दूसरे पंक्ति के रूप में योगदान देने का आग्रह किया है। इन लोगों को कोविड-19 की देखभाल और अन्‍य संबंधित मुद्दों पर प्रशिक्षित किया जायेगा और इनमें कोविड वॉरियर्स के रूप में तैनात किया जायेगा। मानस प्रतीम शर्मा आकाशवाणी, समाचार गुवाहाटी।


-----

देशभर में कई संगठनों ने कोविड-19 के विरूद्ध लडाई में मदद करने के लिए कई कदम उठाये हैं। गुजरात स्थित अमूल एक ऐसा संगठन है, जो न केवल पूरे देश में लॉकडाउन के दौरान दूध की आपूर्ति सुनिश्चित करा रहा है, बल्कि वायरस के फैलाव को रोकने के लिए अच्‍छा स्‍वास्‍थ्‍य मानक भी अपना रहा है। ब्‍यौरा हमारी संवाददाता से


लगभग 5000 टैंकर ड्राइवरों के विशाल नेटवर्क के साथ, अमूल गांवों से प्रति दिन 400 लाख लीटर दूध इकट्ठा कर रहा है और देश भर के एक हजार से अधिक शहरों और कस्बों तक पहुंचा रहा है। अमूल कोऑपरेटिव के प्रबंध निदेशक आरएस सोढ़ी ने कहा कि कोविड 19 के मद्देनजर दूध संग्रह से दूध की डिलीवरी तक सभी प्रक्रियो में अमूल द्वारा एहतियात बरती जा रही है. उन्होंने कहा कि किसानों और श्रमिकों को निर्देश दिया गया है कि वे मास्क पहनें और अपने हाथों को बार-बार साफ करें। उन्होंने कहा कि सभी श्रमिकों की अमूल परिसर में प्रवेश करते समय डॉक्टरों द्वारा जांच की जा रही है। श्री सोढ़ी ने लॉकडाउन के दौरान दूध की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित करने में सहयोग के लिए केंद्र और राज्य सरकार को धन्यवाद दिया। अपर्णा खुंट, आकाशवाणी समाचार, अहमदाबाद


-----

वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद सी.एस.आई.आर. के विशेष प्रयासों के अनुरूप, इसकी प्रयोगशाला तमिलनाडु का सेंट्रल इलेक्ट्रोकेमिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट- सी.ई.सी.आर.आई. की कोविड-19 से निपटने में वैज्ञानिक सेवा के माध्यम से समाज की सहायता कर रहा है।


-----

हाराष्ट्र में मुम्बई के पास रायगड़ ज़िले में जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट पूरे देश में पूर्णबंदी के बावजूद सुचारू ढंग से काम कर रहा है। देश के सबसे व्यस्त बंदरगाह को लॉकडाउन की घोषणा के बाद संचालन जारी रखने के लिए अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। ब्‍यौरा हमारे संवाददाता से


मुंबई के निकट रायगढ़ जिले में स्थित जिस देश के सबसे बड़े कनटेनर टर्मिनल को जे.एन.पी.टी ने लॉकडाउन के कारण उत्‍पन्‍न हुई स्थिति का उचित नियोजन और समय पर कदम उठाकर सामना किया और देश की सप्‍लाई-चेन को पूरी तरह शुरू रखा। लॉकडाउन के बाद जे.एन.पी.टी. के सामने कई समस्‍याएं थी। अनुबंध पर काम करने वाले कर्मचारियों की कमी, ड्राइवरों की कमी, राज्‍य तथा जिले की सीमा सील करना और अपने कर्मचारियों की आवाजाही की समस्‍या जैसे कई चुनौतियां इस कनटेनर पोर्ट के सामने थी। लेकिन काफी कम समय में जे.एन.पी;टी. ने पी.पी. ई  यानी पसर्नल प्रोटेक्‍शन एक्‍यूपमेंट की सुविधा अपने कर्मियों के लिए निवास की तथा ट्रक ड्राइवरों के लिए खाने की तथा स्‍वास्‍थ्‍य जांच की सुविधा, टर्मिनल के अंदर आवाजाही के लिए बस की व्‍यवस्‍था जैसी कई सुविधाएं मुहैया करके अपने काम में कोई गतिरोध उत्‍पन्‍न नहीं होने दिया। इसके साथ-साथ पड़ोस के गांव में भी कोविड-19 के बारे में जन जागरण तथा सेनिटाइजेशन अभियान चलाकर इस महामारी के खिलाफ लड़ाई में और राष्‍ट्र निर्माण में जे.एन.पी.टी ने अह्म भूमिका निभाई है। शैलेष पाटिल आकाशवाणी समाचान मुंबई।


-----

भारतीय सांस्‍कृतिक संबंध परिषद ने कोविड-19 से निपटने के प्रयासों के बीच, कला प्रतियोगिता के जरिये एक अनूठी पहल की है। परिषद, वसुधैव कुटुम्‍बकम की भावना का परिचय देते हुए कोविड-19 के खिलाफ एकता शीर्षक से एक कला प्रदर्शनी का आयोजन कर रही है, जिसमें दुनिया भर से लोग भाग ले सकते हैं। परिषद ने दुनिया के सभी देशों के साथ सांस्‍कृतिक संबंध बनाने और सांस्‍कृतिक तथा शैक्षिक आदान-प्रदान के जरिये लोगों को आपस में जोड़ने के लिए भारत और दुनिया भर के देशों से आग्रह किया है कि वे इस कला प्रतियोगिता के माध्‍यम से अपनी भावनाएं व्‍यक्‍त करें। परिषद के अध्‍यक्ष डॉक्‍टर विनय सहस्‍त्रबुद्धे ने आकाशवाणी से विशेष बातचीत में कहा कि यह पहल संकट की इस घडी में अपने विचार व्‍यक्‍त करने में लोगों के लिए एक अनूठा अवसर है।


-----

संयुक्‍त राष्‍ट्र प्रमुख अंतोनियो गुतरस ने कोविड-19 के जोखिम से बचने के लिए शांति सैनिकों की तैनाती 30 जून तक रोक दी है। संगठन के प्रमुख प्रवक्‍ता स्‍टीफेन दुजारिक ने संवाददाता सम्‍मेलन में बताया कि उनकी प्राथमिकता यह सुनिश्चित करना है कि सैनिक इस संक्रमण से मुक्‍त रहें। उन्‍होंने बताया कि संयुक्‍त राष्‍ट्र के इस फैसले की जानकारी संबंधित देशों को दे दी गई है। 


-----

देशभर में नोवल कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने महामारी फैलने से रोकने के लिए कई परामर्श जारी किए हैं। एक रिपोर्ट -


सरकार ने कहा है कि आवश्‍यक वस्‍तुओं की पर्याप्‍त आपूर्ति जारी है और लोगों को चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। लोगों को सलाह दी जाती है कि वे आवश्‍यक वस्‍तुओं और चिकित्‍सा के सामान की खरीददारी करते समय धैर्य रखें और शांत रहें। आवश्‍यक वस्‍तुओं को खरीदने के लिए बार-बार बाहर निकलने से बचें। साथ ही लोगों को हाथ मिलाने और गले गलने से भी बचना चाहिए। बाजार, मेडिकल स्‍टोर और अस्‍पतालों में लोग कम से कम एक मीटर की दूरी रखें। घर पर गैर-जरूरी सामाजिक समारोह से बचा जाना चाहिए और घर पर मेहमानों को नहीं बुलाना चाहिए। लोगों को अपनी आंख, नाक और मुंह को छूने से बचना चाहिए और लगातार हाथ साफ करते रहना चाहिए। हाथ को दोनों तरफ से कम से कम 20 सेकेण्‍ड तक धोना चाहिए। यदि कोई  व्‍यक्ति खांसी या बुखार से पीडि़त है तो वह दूसरों के संपर्क में आने से बचे और डॉक्‍टर से तुरंत परामर्श ले। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस के बारे में जानकारी के लिए एक टॉल फ्री नम्‍बर- 1075 जारी किया है।


-----

आकाशवाणी से विशेषज्ञों की राय श्रृंखला में हम, कोविड-19 पर प्रमुख चिकित्सा विशेषज्ञों से बातचीत करते हैं। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि लॉकडाउन के दौरान मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए लोगों को घर के अंदर विभिन्न गतिविधियों में संलग्न होना चाहिए।


घर के अन्‍दर एक एरिया बना लें जहां पर आप वॉक कर सकते हो। दूसरा इम्‍पोटेंट इश्‍यू इज मेंटल हेल्‍थ। इसमें यह बहुत जरूरी है कि हम लोग इसे सोशलाइज करें जो परिवार के लोग हैं उनके साथ इकट्ठे बैठके बात करें, कुछ इंडोर गेम्‍स खेल सकते हो, कार्डस हैं तो कार्ड खेल सकते हो, इकट्ठे बैठकर टीवी पर मूवी देख सकते हो। इस टाइप की कई एक्टिविटी कर सकते हो जिसे आप सोशलाई भी कर लें। ज्‍यादा हुआ तो अपने दोस्‍तों के साथ फोन पर बात भी कर सकते हैं। चैट कर सकते हो जिससे आप अपने आपको बिजी भी रखो। मेंटली स्‍ट्रांग रखो, और इस 21 दिन में फिजीकली और मेंटली स्‍ट्रांग रहो। सब लोगों को योगा करना चाहिए, मैडिटेशन करना चाहिए कि हमारे मन में कोरोना के बारे में जो परेशानी है वो भी कम होगी। आप हमारे ब्रीदिंग से हमारे लगं की कैपेसिटी भी बढ़ेगी और ओवरऑल पॉजिटिविटी भी हमारे शरीर में आएगी। 


-----

आकाशवाणी का समाचार सेवा प्रभाग आज रात अपने फोन इन कार्यक्रम में कोविड-19 पर विशेष परिचर्चा प्रसारित करेगा। वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद-सी एस आई आर के वरिष्‍ठ वैज्ञानिक डॉक्‍टर मोहन राव परिचर्चा में शामिल होंगे। विशेषज्ञों से टेलीफोन नम्‍बर 1800-11-5767 पर सवाल पूछे जा सकते हैं। श्रोता 011-23314444 पर भी सवाल पूछ सकते हैं। विशेष फोन इन कार्यक्रम एफएम गोल्‍ड और अतिरिक्‍त मीटरों पर रात नौ बजकर 10 मिनट से सुना जा सकता है।


-----

देशभर में सरकार के अनुरोध पर लॉकडाउन के अनुपालन में लोग अपने घरों में रह रहे हैं। कोरोना संक्रमण की स्थिति से निपटने के लिए लोग घरों में कार्य, खेल, अध्‍ययन और बागवानी सहित कई कामों में लगे हैं। हमारे संवाददाता ने कुछ लोगों से बातचीत की।


-----

चैत्र पूर्णिमा के अवसर पर आज देशभर में हनुमान जयन्‍ती मनाई जा रही है। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने इस अवसर पर लोगों को शुभकामनाएं दी हैं।


-----

ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उनके देश को मलेरिया-रोधी दवा हाइडोक्‍सी-क्‍लोरोक्विन का निर्यात करने का अनुरोध किया है।  उन्‍होंने अपने पत्र में भगवान हनुमान की संजीवनी बूटी का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री मोदी से अनुरोध किया है कि उनके देश को यह दवा उपलब्‍ध कराएं, ताकि वह कोविड-19 जैसी विश्‍व महामारी से निपट सके। श्री बोलसोनारो ने अपने पत्र में लिखा है कि भगवान हनुमान, भगवान राम के भाई लक्ष्मण के जीवन को बचाने के लिए हिमालय से पवित्र बूटी लाये थे और यीशु ने उन लोगों को स्‍वस्‍थ किया जो बीमार थे और बार्टिमु को फिर से दृष्टि दी थी। श्री बोलसोनारो ने कहा कि भारत और ब्राज़ील मिलकर और सभी के लिए दुआ कर इस वैश्विक संकट से निपट लेंगे।


-----

ट्विटर अपडेट

समाचार सुनें

  • Morning News 2 (Jun)
  • Midday News 2 (Jun)
  • News at Nine 2 (Jun)
  • Hourly 3 (Jun) (0605hrs)
  • समाचार प्रभात 2 (Jun)
  • दोपहर समाचार 2 (Jun)
  • समाचार संध्या 2 (Jun)
  • प्रति घंटा समाचार 3 (Jun) (0600hrs)
  • Khabarnama (Mor) 2 (Jun)
  • Khabrein(Day) 2 (Jun)
  • Khabrein(Eve) 2 (Jun)
  • Aaj Savere 3 (Jun)
  • Parikrama 2 (Jun)

कार्यक्रम सुनें

  • Market Mantra 2 (Jun)
  • Samayki 2 (Jun)
  • Sports Scan 23 (Mar)
  • Spotlight/News Analysis 2 (Jun)
  • Public Speak
  • Country wide 12 (Mar)
  • Surkhiyon Mein 2 (Jun)
  • Charcha Ka Vishai Ha 11 (Mar)
  • Vaad-Samvaad 17 (Mar)
  • Money Talk 17 (Mar)
  • Current Affairs 6 (Mar)
  • Money Matters 22 (Mar)
  • International News 22 (Mar)
  • Press Review 23 (Mar)
  • From the States 23 (Mar)
  • Let's Connect 22 (Mar)
  • 360°- Ek Parivesh 23 (Mar)
  • Know Your Constitution 30 (Jan)
  • Ek Bharat Shreshta Bharat 22 (Mar)
  • Sanskriti Darshan 23 (Mar)
  • Fit India New India 23 (Mar)
  • Weather Report 21 (Mar)
  • North East Diaries 22 (Mar)
  • 150 Years of Bapu 22 (Mar)
  • Sector Specific Discussions 22 (Mar)

 

 

 

 

× All donations towards the Prime Minister's National Relief Fund(PMNRF) and the National Defence Fund(NDF) are notified for 100% deduction from taxable income under Section 80G of the Income Tax Act,1961""